103rd Birthday Celebrations of Brahma Kumaris’ Chief Dadi Janki

128

Abu Road (RJ): The Brahma Kumaris celebrated the 103rd birthday of its Chief Rajyogini Dadi Janki with great splendor. The ceremony was attended by twenty thousand Brahma Kumars and Kumaris from India and abroad.

In her speech Dadi Janki said that these days she often asks God as to why has he kept her soul in this body for so long? And He answered that He has made it His vehicle for manifesting Himself in all His glory.

Sister BK Asha, Director, Om Shanti Retreat Centre, Near Gurgram shared valuable nuggets about Dadi Janki. She revealed that Dadi never sent anyone back empty handed- either spiritually or materially.  She still revises the Murli(Godly versions) all day and shared 4 important words for New Year- Be Healthy, Be Blissful,Be Pleasant and always perform karma worthy of blessings.

The event started with a play called ‘Balance Sheet 2018’ about the need to do good karma always. This was followed by a dance performance on Dadi’s favorite song ‘Chalte chalte yuhin koi mil gya tha‘(I found someone while moving along). A documentary ‘Flying Angel#103’ was shown which said that Dadi Janki travelled approximately 70,000 kms by air for Godly service worldwide in 2018 which is a world record.

Dadi Janki was welcomed by a grand procession and the whole Diamond Hall united in powerful yoga vibrations to invite Dadi Janki who made a grand entry dressed as Krishna emerging from a lotus surrounded by the eight forms of goddesses. She was joined on the stage by Dadi Ratanmohini, Joint Chief of Brahma Kumaris, BK Nirwair, Secretary General of Brahma Kumaris, BK Brijmohan, Chief Editor, Purity Magazine, BK Munni, Director,(Programs), BK Mruthyunjaya, Executive Secretary of Brahma Kumaris who came to congratulate her wishing her life for many more years.

The whole BK family joined together for the candle lighting and cake cutting ceremony. A performance worthy of an occasion of such magnitude was put together in the beautifully decorated Diamond Hall by the BK fraternity in Dadi’s honour. With various cultural performances, ended the blissful evening on a magical note.

Hindi News:

दादी के 103वें जन्मदिन पर विशाल कार्यक्रम, हजारों लोगों ने की दीर्घायु होने की कामना
विशाल डायमंड हॉल में समारोह, देश दुनिया से पहुंचे प्रतिनिधि, सांस्कृति प्रस्तुतियों ने मन मोहा
आबू रोड, 1 जनवरी, निसं। नारी शक्ति का प्रतीक विश्व व्यापाी संगठन प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्व विद्यालय की मुख्य प्रशासिका राजयोगिनी दादी जानकी के 103वां जन्मदिन हर्षोल्लास से मनाया गया। ब्रह्माकुमारीज संस्थान के डायमंड हॉल में हजारों लोगों की उपस्थिति ने दादी के दीर्घायु होने की कामना की।
इस अवसर दादी ने कहा कि उनका जीवन केवल परमात्मा के सहारे है। परमात्मा से मन की डोर बधी होने के कारण वह हमे चलने और कार्य करने की शक्ति देता है। यदि मन की डोर परमात्मा से लग जाये तो व्यक्ति कभी उर्जाहीन नहीं होगा। लोगों की सेवा करने से जीवन में पुण्य जमा हो जाता है। यही लम्बी उम्र हा रहस्य है। हजारों की संख्या में समर्पित बहनें अपने जीवन को धन्य बना रही हैं।
ब्रह्माकुमारीज संस्था की महासचिव बीके निर्वेर ने कहा कि 103 वर्ष की उम्र में आज भी एक्टिव होकर पूरे संस्थान का कार्य भार संभाल रही हैं। दुनिया में ऐसे कम लोग है जो इतनी उम्र में भी इतने बड़े संस्थान की मुखिया है यह गौरव की बात है। उन्होंने दादी को स्वस्थ तथा दीर्घायु होने की कामना की। सिरोही के पूर्व महाराजा रघुबीर सिंह ने कहा कि दादी जैसी हस्ती हमारे सिरोही में है यह हमारे लिए बहुत ही गर्व की बात है। दादी पूरी दुनिया की दादी हो गयी है।
कार्यक्रम में ब्रह्माकुमारीज संस्था के अतिरिक्त महासचिव बीके बृजमोहन ने कहा कि जिसकी उम्र सौ साल के पार हो जाये वह आज के युग में अजूबा से कम नहीं है। क्योंकि वर्तमान समय में सौ साल की उम्र जी पाना असम्भव है। क्योंकि सौ साल के बाद जो व्यक्ति आध्यात्मिक होता है वह दिव्य हो जाता है। दादी का जीवन भी कमोबेश होता है।
13फीट उंचे सिंहासन पर बैठी दादी: दादी के सम्मान में 13 फीट उंचा सिंहासन बनाया गया था। इस सिंहासन में चारो ओर देवियों का प्रतिरूप तथा बीच में दादी विराजमान थी। जैसे फूलों की पंखुडिय़ों के बीच दिव्य लग रही थी। उनके आवास से सीधे आयोजन स्थल तक दिव्य रथ बनाकर उसमें झांकी निकालकर लाया गया।
महाराष्ट्र के कलाकारों ने बांधा समा: दादी जानकी के समारोह में महाराष्ट्र से आये कलाकारों ने अपनी प्रस्तुति से समा बांध दिया। वहीं फिल्म अभिनेत्री दिव्य कुमार खोसला ने भी अपनी प्रस्तुतियों से दादी समेत उपस्थित लोगों का स्वागत किया।
लेजिम के साथ निकली सवारी: दादी के आवास से आयोजन स्थल तक महाराष्ट्र का सुप्रसिद्ध नृत्य लेजिम पर नाचते गाते युवाओं के दल ने चार चांद लगा दिया।
केक काटकर बधाई: सभा में उपस्थित लोग तथा मांचासीन अतिथियों ने केक काटकर कार्यक्रम की बधाई दी। कई स्थानों से आये कलाकारों ने नृत्य से लोगों को भाव विभोर कर दिया।
फोटो: 2एबीआरओपी, 1, 2, 3, 4, 5 सभा में उपस्थित लोग, कार्यक्रम में उपस्थित अतिथि।