Interfaith Leaders Launches ‘God of Gods’ Film by Brahma Kumaris in Delhi

130

‘God of Gods’ Movie’s National Launching Held in Delhi

New Delhi, Feb 28: On the occasion of Maha Shivratri in the coming week, the national launching of the movie “God of Gods” produced by films division of Brahma Kumaris organization was held at Odean Cinema, Connaught Place today.

By lighting lamps, prominent interfaith leaders jointly launched the movie for the country and opened it for media preview. The movie will be released in PVRs and Cinema halls across the country by Wakao Distributors, in early March.

This one and half hour film is based on unique theme of “God’s love and journey towards country’s love” and basic fundamental values. It encourages the principle of universal brotherhood which is the most demanding in present critical times especially admist growing tensions between India and Pakistan. The film was appreciated by interfaith leaders and appealed to be translated and widely distributed in India and overseas.

Mohd. Iqbal Mullah, National Secretary, Jamaat-e- Islami Hind, said humanity and brotherhood is the basis of all religions. This film endeavours to showcase the underlying objective of all religions to bring peace, love and unity.  He mentioned that as hindus, muslims, Christians and other religions, we are brothers, so we should not opt for violence to fight or resolve differences.

H.H. Swami Servanand Saraswati, Maha Shakti Peeth said, this film is helpful in removing the myths of different religions and help us in building peace and discipline in our countries.

Dr. M.D. Thomas, Institute of Harmony studies said we belonging to different religions need to walk hand in hand in present times. This film would help us in bringing us together under one umbrella and reminding when God is one, we need to execute our thoughts towards building harmony and peace.

This film is a beautiful reminder to get back to our basic fundamental values of humanity. This movie has come out an opportune time and gives a platform to introspect our faith and belief in God and values, not only above us but each of us.

Dr. A. K. Merchant, National Trustee Lotus Temple and Bahai’s community of India said that this movie is inspiration to bring unity amongst the different religions and showcases the integral objective of all religions. The Upanishads also gives a message to remain united and peacefully find solutions to challenges of today’s times. This will be helpful in creating a healthy society.

It is a valuable process of educating the people, especially the young generation to perceive the understanding of oneness of God.

The central theme of the film is to achieve the essential unity of 1.3 billion Indians irrespective of their diverse faiths for country’s peace, progress and well being through the recognition and realization of universal brotherhood under spiritual fatherhood of one incorporeal Supreme Soul, God.

Approved by Censor Board in U/A category is one and half hour movie which is a journey for love for God to love for the country has actors like Tejaswini Monogana, Triyug Mantri, Raj Singh Verma, Shiva and Babu in lead roles.

Professional singers like Shreya Ghosal and music directors like Laksmikant Pyarelal, Laxmi Narayana and Viswa Malik have given their best in making this beautiful aesthetic and cinematographic movie locations such as Chennai, Mumbai, UK and USA.  Dance and Choreography of the film have been accomplished by Shruti Merchant and Kiran Shriyan.

The 21st film of Brahma Kumaris Films Division is conceived, written and directed by B K Venkatesh. The movie has been produced by Jagmohan Gard of Delhi and Mr. M S Reddy of Hyderabad. The trailer of the movie is available on Youtube.

New in Hindi:

गॉड ऑफ़ गॉड्स’ (GOD OF GODS) फिल्म का राष्ट्रीय शुभारम्भ आज दिल्ली में हुआ

फ़िल्म की शुभारम्भ करते समय धर्म नेताओं ने विंग कमांडर अभिनंदन जी के शीघ्र रिहाई हेतु सामूहिक प्रार्थना एवं अपील की

नयी दिल्ली, 28 फरवरी : महाशिवरात्रि के उपलक्ष्य पर ब्रह्माकुमारी संस्था के फिल्म डिवीज़न द्वारा निर्मित ‘गॉड ऑफ़ गॉड्स’  ‘देवोँ के भगवान’  फिल्म का राष्ट्रीय शुभारम्भ आज स्थानीय ओडियन सिनेमाघर में हुआ।  विभिन्न धर्म सम्प्रदाय के नेताओं ने सम्मिलित रूप में दीप प्रज्वलन कर इस फिल्म का शुभारम्भ करने के पश्चात इस फ़िल्म का स्क्रीनिंग एवं मीडियाप्रीव्यू भी उसी सिनेमा घर में हुआ।

ईश्वर भक्ति से देश भक्ति के ओर एक यात्रा’ मर्म पर आधारित एवं मानवीय मूल्यों र्और धार्मिक एकता का संदेश देने बाली यह डेढ़ घंटे की यह फ़िल्म को सभी नेताओं ने सराहा और समग्र देश तथा विदेशों में अनेक भाषाओं में इसे प्रदर्शित करने के लिए आग्रह किया।   

जैन धर्मगुरू आचार्य डॉ लोकेश मुनी ने कहा कि यह फिल्म जब हम एक ही ईश्वर को, एक ही लाईट को जान जायेगें तो एकता, भाईचारे, सदभाव,, प्रेम व शान्ति का स्वप्न साकार होगा। यह स्वार्थ से उठकर परार्थ, परमार्थ की ले जाने व धर्म हमें तोड़ना नहीं जोड़ना सिखाता है संदेश देती है।

इस अवसर पर अपने व्यक्तव्य में लोकेश मुनि ने  पाकिस्तान सेना के बंदी विंग कमांडर अभिनंदन की तुरंत रिहा के लिए पाकिस्तान के ऊपर दबाव डालने तथा सभी एक होकर ईश्वर से प्रार्थना करने के लिए सभी धर्म के नेताओं को और देशवासियों को अपील की ।

उन्होंने कहा की सभी मनुष्य आत्माओं के परमपिता एक निराकार परमात्मा ही है, इसी संदेश को फैलाने वाली यह फ़िल्म  सभी धर्मों को और समग्र विश्व को एकता के सूत्र में बांधने की क्षमता रखती है।

भारत में बहाई धर्म के नेशनल ट्रस्टी डॉ0 ऐ.के.मर्चेन्ट ने कहा कि यह फिल्म लोगों में विशेषकर युवा पीढ़ी को शिक्षित करने व समझाने के लिए कि सभी धर्मां को संदेश एक है कि परमात्मा एक है। उन्होंने ब्रह्माकुमारी संस्था एवं फिम्म के निर्माता द्वारा किये गये प्रयत्नों की सराहना की।

महाशक्तिपीठ के स्वामी सर्वानन्द सरस्वती जी ने कहा कि यह फिल्म सनातम धर्म व फिलासफी के बिल्कुल समीप लाकर व भ्रांतियों को दूर करने तथा आज के समय के लिए उपयोगी, आचरणीय, अनुकरणीय एवं शान्ति और ईश्वर की प्राप्ति का साधन है।

अन्तर्राष्ट्रीय बौद्धी फेडरेशन के जनरल सेक्रेट्री लामा लाबजंग ने कहा कि फिल्म सभी धर्मां के एक ही ईश्वर के संदेश को दर्शाती है।

जमात-ए-इस्लामी हिन्द के नेशनल सेक्रेट्री मौ0इकबाल मुल्ला ने कहा कि यह फिल्म अल्लाह को जानने एवं सभी धर्मां के इन्सानियत के संदेश को फैलाने की दिशा में अच्छा प्रयास है। साथ ही संदेश देती है कि हम हिन्दु, मुस्लिम, सिक्ख, ईसाई आदी मजहब जब आपस में भाई-भाई है तो लड़ना नहीं चाहिए।

ईसाई धर्म के डॉ0 एम0डी0थॉमस ने कहा कि यह फिल्म अपने नाम गॉड ऑफ गॉड्स को सार्थक करती है। अलग-अलग धर्मां के प्रमुख लोगों को उस गॉड ऑफ गॉड्स परमसत्ता की ओर मिलजुलकर चलने की जरूरत है। मैं यह शुभकामना करता हूँ कि गॉड ऑफ गॉड्स फिल्म से उस मन्जिल की ओर जाने की सभी को सबको प्रेरणा मिलती रहे।

‘गॉड ऑफ़ गॉड्स’ ब्रह्मा कुमारी संस्था के फिल्मस डिवीज़न द्वारा बनाई गई 21 वीं फ़िल्म है। इस फिल्म की मुख्य कथा एवं पटकथा वेंकटेश गोपाल ने लिखी है और इसका डायरेक्शन भी उन्होंने ही किया है। इस फिल्म के निर्माता दिल्ली के जगमोहन गर्ग और हैदराबाद के आई.एम.एस. रेड्डी है।

 सेंसर बोर्ड से यू/ए सर्टिफिकेट प्राप्त यह फिल्म बेहतरीन विजुअल इफेक्ट्स, सिनेमैटोग्राफी और अट्मोससाउंड द्वारा बनी है। इस फिल्म का सिनेमैटोग्राफी माधव राजदत्तर और करण तोलानी ने किया  है। इस फिल्म का डांसकोरियोग्राफी श्रुति मर्चेंट और किरन श्रीयन ने किया है।

इस फिल्म में बेहतरीन संगीत लक्ष्मीकान्त-प्यारेलाल जी, लक्ष्मी नारायण और विश्वामल्लिक ने दिया है और श्रेया घोषाल ने इसे अपने मधुर आवाज से सजाया है।

यह फिल्म ईश्वर की भक्ति से देश भक्ति की एक यात्रा है। डेढ घंटे की इस फिल्म में तेजस्विनी मनोगना, त्रियुग मंत्री, राजसिंह वर्मा, शिवा और बबु ने मुख्य किरदार निभाया है।  इस फिल्म की कहानी का मूल सूत्र है -क्या हम एक ईश्वर के प्रेम में बंधकर एकतापूर्वक रह सकते हैं?

यह फिल्म मुंबई, चेन्नई, मैक्सिको, यू.के और यू.एस.ए. में शूट की गई है। यह फिल्म पी.वी.आर सिनेमाघरों में वकाओ वितरण कंपनी के द्वारा पुरे भारत में रिलीज किया जायेगा। इस फिल्म के ट्रेलर्स यूट्यूब पर उपलब्ध हैं।