National Conference on ‘Unlocking Secrets of Life Management’ Held at Mount Abu

271

Mount Abu: The Conference-cum-Meditation Retreat on “Unlocking Secrets of Life Management” inaugurated at Harmony Hall, Gyan Sarovar, here by the joint efforts of Brahma Kumaris and Rajayoga Education and Research Foundation’s Scientist and Engineers Wing. More than 500 delegates from all over lndia and Nepal took part in the conference.

Rajyogi BK Mohan Singhal, Vice Chairperson of Scientists and Engineers wing, clarified the aim of this seminar and said that the life has 6 important phases. In order to understand them clearly, different seminars have been arranged. The topics are Direction of life, Preferences, Art of speaking, Managing the mind, Sweetness in relationship and Managing pain and criticism. With the knowledge of all these aspects we can be happier in life. We must practice yoga or inward journey regularly by which many secrets of life get revealed to us.

Mr. DV Sastry, ED, HRD, GAIL, said our mind is extremely powerful but we use a very meagre part of it. To manage life successfully we need to have control over self. It is a matter of contemplation because the mind is very fickle. By regular practice of yoga mind becomes stable and many secrets of life get revealed.

Mr. Shambhu prasad, Senior Programmer Specialist in World Bank, Kathmandu said, mere physical health cannot make us successful . Our inner powers must be strong and perfect and this is possible only by Rajyoga which is taught here.

BK Arun Sahoo, Additional G.M. Rourkela Plant, stated that he has detailed the delegates about Brahma Kumaris Organisation. Mr. Jawahar Mehta, ex Wing Commander said that he learnt the art 48 years ago and advised all the delegates to know the technique of Rajyoga.

Rajyogini BK Godavari, Zonal Co-ordinator of Scientist and Engineers wing, Mumbai, blessed the program with best wishes. She said unless we know the real thyself, life has no meaning, it is a mere waste. Know the self and the God. Once you realize thyself and imbibe the divine qualities, only then can we make life very nice and beautiful.  Make the life colourful with divine colours.

Mr. Bharat Bhushan, Zonal Co-ordinator of Scientist and Engineers wing, Panipat, said that we are spirits, the souls. We must know what is soul and experience it. He said to make life perfect be positive, wake up early and give respect to others. Forgiveness renders life beautiful. He said energise self and never leave the company of courage.

BK Piyush from Delhi, Mr. Narendra Singh Tomar, BK Singh, Administrative Manager, SAIL, Rajayogi BK Nirwair,  Secretary General of Brahma Kumaris, Mount Abu, Rajyogini BK Sarla all presented their best wishes.

Rajyogini BK Jyoti conducted practical rajayoga for few minutes. BK Bharat welcomed all the guests. BK Narendra expressed gratitude to all the participants.  BK Madhuri nicely anchored the whole seminar and made it live

Hindi News: ​

ईश्वरीय रंग में रंग लें अपना जीवन : राजयोगिनी गोदावरी दीदी आबू पर्वत ( ज्ञान सरोवर ) २६ मई २०१८ आज ज्ञान सरोवर स्थित हार्मनी हॉल में ब्रह्माकुमारीज एवं आर ई आर एफ की भगिनी संस्था, “वैज्ञानिक और अभियंता प्रभाग ” के संयुक्त तत्वावधान में एक अखिल भारतीय सम्मेलन का आयोजन हुआ। सम्मलेन का मुख्य विषय था – “जीवन प्रबंधन के रहस्यों को प्रत्यक्ष करना . इस सम्मलेन में नेपाल सहित भारत वर्ष के विभिन्न प्रदेशों से बड़ी संख्या में प्रतिनिधिओं ने भाग लिया . दीप प्रज्वलित करके इस सम्मेलन का उद्घाटन सम्पन्न हुआ.

राजयोगिनी गोदावरी दीदी ने सम्मेलन को अपना आशीर्वचन दिया। आपने कहा कि अगर हमने अपने आप को नहीं पहचाना तो जीवन बर्बाद है ,बिना किसी अर्थ का है। खुद को और खुदा को पहचानो। खुद को पहचान लेंगे तभी जीवन का प्रबंधन कर पाएंगे। ईश्वर का रंग अगर जीवन में आएगा तभी हमारे जीवन का बढ़िया प्रबंधन हो पायेगा।
राजयोगी मोहन सिंघल , वैज्ञानिक और अभियंता प्रभाग के उपाध्यक्ष ने इस सम्मेलन का लक्ष्य स्पष्ट करते हुए बताया कि जीवन के छह मुख्य पहलू होते हैं उन सभी को ठीक रीति से समझने के लिए हमने विभिन्न सत्र रखे हैं। उनके विषय इस प्रकार से हैं : “जीवन की दिशा ,प्राथमिकता , संवाद कौशल , मन का प्रबंधन , सम्बन्धो की मधुरता तथा पीड़ा और आलोचनाओं का प्रबंधन। साथ ही जीवन में ख़ुशी प्राप्ति की विधि “।
जब उपर्युक्त सभी विषय आपको ठीक रीति से समझ आ जायेंगे तब आप अपना जीवन बढ़िया रीति से संचालित कर पाएंगे। जीवन के सारे रहस्य खुलते रहेंगे। अनेक बार अंदर का सफर हमें काफी समझ और जानकारियां प्रदान करता है। आतंरिक सफर जारी रखिये।
डी वी शास्त्री ,इ डी , एच् आर डी ने आज अपना उदघाटन भाषण दिया। कहा कि मन परम शक्तिशाली है मगर हम इसका एक छोटा सा हिस्सा ही प्रयोग में ला पाते हैं। जीवन के प्रबंधन के लिए नियंत्रण चाहिए – वह भी स्वयं पर। वह कैसे करें ?? इसी पर विचार करना है। मन तो काफी चचल है। यह जान लेना की मन की चंचलता को कैसे रोका जाए – तब समस्या का समाधान निकलेगा। अभ्यास से हम मन की चंचलता को नियंत्रण में ला पाएंगे।
शम्भू प्रसाद, विश्व बैंक में प्रोग्रामर , विशिष्ठ अतिथि, नेपाल ने भी अपने उदगार रखे। आपने बताया कि मात्र शरीर को ठीक रखने से सफलता नहीं मिलेगी बल्कि हमारे अंदर की सूक्ष्म शक्तियां का ठीक और स्वस्थ होना आवश्यक है। वह सूक्ष्म शक्तियां राजयोग के अभ्यास से ही सही होंगी। हम यहां ब्रह्मा कुमारीस से ये राजयोग सीख कर वापस जायेंगे। और उसी आधार पर हम अपने जीवन में सफलता का रहस्य पा लेंगे।
बी के अरुण साहू , एडिशनल जी एम् ,राउरकेला प्लांट ने आज के अवसर पर अपने उदगार कुछ इस प्रकार रखे। आपने ब्रह्मा कुमारीस संस्थान के बारे में प्रतिनिधिओं को बताया।
जवाहर मेहता ,पूर्व विंग कमांडर ने अपने उदगार प्रकट किये। आपने कहा मुझे विश्वास है की आप भी यहां से मेरी तरह जीवन के रहस्यों को समझ पाएंगे जो मैंने ४८ वर्ष पहले समझा था और उसको बेहतर बनाने की तकनीक भी सीख पाएंगे।
वैज्ञानिक और अभियंता प्रभाग के क्षेत्रीय संयोजक भारत भूषण ने जीवन के बारे में बताया। कहा की हम स्पिरिट हैं , आत्मा हैं। हमें आत्मा को समझना है और अनुभव में लाना है।
अंग्रेजी के परफेक्ट शब्द को आपने जीवन को परिभाषित करने के लिए बढ़िया माना। कहा पॉजिटिव रहिये , अर्ली जाग जाईये , रेस्पेक्ट दीजिये सभी को ,फोर्गीवेनेस्स जीवन को बढ़िया बनाता है, खुद को एनेर्जाइज़ करिये, और करेज का साथ कभी ना छोड़िये।

बी के पीयूष, दिल्ली ने कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर , बी के सिंह ,सेल के प्रबंध निदेशक , महासचिव ब्रह्माकुमारीज़ ,राजयोगी निर्वैर भाई तथा राजयोगिनी सरला दीदी ,वैज्ञानिक और अभियंता प्रभाग की अध्यक्षा के सन्देश पढ़ कर सुनाये। अन्य महानुभावों ने भी अपना शुभकामना सन्देश भेजा है।

राजयोगिनी ज्योति बहन ने कुछ समय के लिए ध्यान का अभ्यास करवाया।
बी के भरत , वैज्ञानिक और अभियंता प्रभाग के मुख्यालय संयोजक ने पधारे हुए सभी प्रतिनिधिओं का स्वागत किया।

बी के नरेंद्र भाई ने अतिथियों के लिए आभार प्रकट किया। ब्रह्मा कुमारी माधुरी बहन ने मंच का सञ्चालन किया। (रपट: बी के गिरीश , मीडिया ,ज्ञान सरोवर ).