Views / Experience

Views / Experience | 1 | 2 |

1-pranab-mukherjee“मूल्य शिक्षा व्यक्ति की महत्ता को बढ़ाती है और समाज को सार्थक मार्ग पर ले जाने में मदद करती है। शैक्षिक उत्कृष्टता के साथ आध्यात्मिक विकास का प्रयास प्राचीन मूल्यों और परम्पराओं को पुनः प्राप्त करने की दिशा में सही कदम है। भारत में शिक्षा का विकास देश की शासन व्यवस्था को लचीला बनाए रखने का प्रमुख कारक है। भारतीय दर्शन और संस्कृति में हमारी अगाध आस्था है। हमारा मानना है कि ऐसे मूल्यों के बीच तालमेल से प्रगति का मार्ग प्रशस्त होगा। ब्रह्माकुमारी संस्था का मूल्य शिक्षा का प्रयास प्रशंसनीय है।”

श्री प्रणब मुखर्जी, राष्ट्रपति, भारत सरकार ( H. E. Pranav Mukherjee, The President of India)

2-narendra-modi“सेवा ही परमोधर्म है और सेवा के इस क्षेत्र से जुड़े हुए आप लोग वंदनीय है। सेवा तभी फलीभूत होती है जब वह स्वार्थरहित हो। अद्वैत की अनुभूति से ही अपनत्व का विकास होता है। परोपकार और दयाभाव रखकर सेवा करने से भीतर से भाव प्रकट होते हैं। सेवा के लिए पद, प्रतिष्ठा और मान-सम्मान की आवश्यकता नहीं होती है। उसे ऊंच-नीच, जाति-पाति की सीमाओंमें विभाजित नहीं किया जा सकता।

ब्रह्माकुमारी संस्था द्वारा की जा रही मानवीय चरित्र निर्माण की सेवाएं सराहनीय ही नहीं, अनुकरणीय भी हैं। सेवाओं के क्षेत्र अलग-अलग हो सकते हैं किन्तु आपकी यह सेवा सभी सेवाओं से महान है। मानवाधिकारों का चोला पहनकर आतंकवादियों का समर्थन करने वालों से पूछा जाना चाहिए कि इस देश में ऐसे लोगों की कमी नहीं है जिन्होंने सेवा को सर्वोपरि मानते हुए स्वयं के जीवन को समाज सेवा के लिए समर्पित कर दिया है। सकारात्मक मानवीय सोच के आधार पर ही चरित्र निर्माण, श्रेष्ठ संस्कारों का विकास तथा समाज का उत्थान होता है। दया, करुणा, सहानुभूति तथा अपनेपन के भाव से ही गरीबों की सेवा करने से सुखद अनुभूति का अहसास होगा। सहिष्णुता और सहनशक्ति में भारत विश्व में सबसे आगे है। हमारे देश में समाज सेवा की भावना प्राचीनकाल से ही चली आ रही है। यही भावना देश की सीमाओंको लांघकर ‘वसुधैव कुटुम्बकम्’ और ‘सर्व जन हिताय, सर्व जन सुखाय’ के महान चरित्र को दर्शाती है जिससे समाज का नवनिर्माण किया जाना सम्भव है।”

श्री नरेंद्र मोदी, प्रधानमंत्री, भारत सरकार (Mr. Narendra Modi, Prime Minister of India)

3-hamid-ansari“Brahma Kumaris concept of ‘One God and One World Family’ has inspired me to participate in the Global Peace Festival. Their spiritual wisdom and social work has been recognized  worldwide. This itself is a testimony of their global presence as promoters of peace, love and harmony.”

H.E. Hamid Ansari, Vice‐President of India

7-pratibha-devsingh-patil“It is a pleasure to inaugurate the Platinum Jubilee Celebrations of the Prajapita Brahma Kumaris Ishwariya Vishwa Vidyalaya. 75 years is an important milestone in the journey of any organization. Brahma Kumaris is not a religion, but a spiritual fraternity, and with its message of the importance of a spiritually rich life and value‐based living, it has touched the lives of thousands of people from all walks of life from different nations, cultures, creeds and races. It is, therefore, apt for such an organization to have chosen the theme “One God, One World Family” to celebrate its  Platinum Jubilee.
It is noteworthy that from a small beginning in 1936, the institution of the Brahma Kumaris has emerged as a large organization of its kind, led largely by women, working ceaselessly for peace, harmony and universal brotherhood. I congratulate you all for this.
I hope that the Platinum Jubilee Celebrations will spread the message of compassion and oneness and inspire people to build bridges of unity amongst all cultures and creeds. I once again congratulate the Brahma Kumaris on this momentous occasion, and wish them success in achieving the noble vision of creating a world of peace and harmony.”

Mrs. Pratibha Devisingh Patil, The then President of India

8-giani-zail-singh“The walls of religion divide men from each other, but I am happy to find that the Brahma Kumaris are endeavouring to promote unity without breaking individual religious structures. Their method is spiritual teaching and pious thoughts created through yoga power. I consider it to be an  excellent method ‐ a simple formula to establish peace.”

Mr. Giani Zail Singh, The then President of India

 9-apj-abdul-kalam“Today the vision of the Vedas ‘Vasudhaiva Kutumbakam’ (the world is one family) has become a reality not because of various philosophical paths of teachings, but because of teachings of the Brahma Kumaris, which revolve around mutual brotherly love. Unless we have  love for each other, how can you establish one united world? Keep always smiling. There is no  ceiling limit for love. Draw and manifest the powers within and bring about the change in the  human system for the better world. This institution has helped us to cross over this world of unhappiness. I would rather say that God helps us through this institution.”

Bharat Ratna Dr. A.P.J. Abdul Kalam, The then President of India

11-rajiv-gandhi“There is an urgent need to give up narrow mentality and develop mutual goodwill and  co‐operation. This will provide a new direction to world peace and development. If we want to  take human civilization to its zenith, we have to eradicate all sorts of discrimination.
The efforts of Prajapita Brahma Kumaris Ishwariya Vishwa Vidyalaya, Mt. Abu, in the direction of World Peace are highly commendable. Here two things have impressed me:  Self‐Transformation is a pre‐requisite for World Transformation and there should be peace in the mind. It is only peace in the minds of lacs of people which will bring World Peace. Knowledge and Science based on Spiritual Power will rule the World.”

Mr. Rajiv Gandhi, The then Prime Minister of India

 13-atal-bihari-vajpayee“You (Brahma Kumaris) have created this Harmony Hall, and you are running centres to inspire positivism in people. You have been providing training of various types; even foreigners are taking a share from that. Here they understand that it is the first step of the ladder of human  welfare. It is a matter of great pleasure that our culture is being praised in other countries also.  The organisations engaged in this noble task should be honoured, they should be provided co‐operation.”

Mr.  Atal Bihari Vajpayee, The then Prime Minister of India

4-shankar-dayal-sharma “I feel greatly honoured to inaugurate the Diamond Jubilee Celebration of Prajapita Brahma Kumari Ishwariya Vishwa Vidyalaya. I congratulate them for completing their successful 60 years in the service of humanity promoting values, spirituality and Rajyoga meditation. Their spiritual and scientific approach have lifted and empowered lakhs of brothers and sisters to lead a pure and peaceful life. They are doing a commendable work by promoting peace and harmony in the world. I am proud to know that their work has been appreciated by the United Nations and thus, honouring the institution with ‘Peace   Messenger’ Award.”

H.E.  Shankar Dayal Sharma, The then President of India

5-bd-jatti “I am indeed greatly honoured to inaugurate the conference on ‘Future of Mankind’ being held here in Vigyan Bhawan. I have been associated with the activities of Brahma Kumaris as Chief Minister of Karnataka, Lt. Governor of Pondicherry and Governor of Orissa. I am deeply impressed by their socio‐spiritual activities and peace-making mission. Their dedication and devotion to the cause of spiritual and moral empowerment is worth emulating.”

H.E. B.D. Jatti, The then Vice President of India, New Delhi

 6-bhairo-singh-shekhawatदिल्ली के नेहरू स्टेडियम में ब्रह्माकुमारी संस्था द्वारा आयोजित भव्य समारोह में आकर मुझे अत्यन्त प्रसन्नता का अनुभव हो रहा है। मैं विगत कई वर्षों से ब्रह्माकुमारी संस्था को जानता हूँ। इस संस्था के संस्थापक दादा लेखराज, जिन्हें `ब्रह्मा बाबा’ के नाम से पहचाना जाता है, उनसे माउण्ट आबू में मिलने का परम सौभाग्य प्राप्त हुआ था। उनकी प्रेरणा और आशिर्वाद भी मुझे मिला हुआ है। संस्था का विकास और निःस्वार्थ सेवा देखकर मैं बहुत खुश हूँ।

श्री भैरों सिंह शेखावत
तत्कालीन उपराष्ट्रपति, भारत सरकार (H.E. Bhairon Singh Shekhwat, The then Vice-President of India)

10-p-v-narasimha-rao “It is in our culture to speak profundities to sing hymns praising God and to communicate in a comprehensible manner so that it touches the heart. This is a grandiose heritage, which has come a long way; a very powerful heritage indeed. It  goes on and on and we should never renounce it.
We appeal to all institutions that we are surrendering in this matter. We cannot do it. The Government cannot do it. When you and I promise to fulfil our respective responsibilities, then we can get maximum results from this venture. You accomplishyour task; I accomplish mine; then we can meet from time to time to exchange views.Whatever help you need from the Government, we can give you, but only you (Brahma Kumaris) or institutions like yours can change the attitudes of people. This is whywe bow to you.”

Mr. P.V. Narasimha Rao, The then Prime Minister of India

 12-s-r-insanally“It is my view that the closest thing perhaps that we have to an earthly paradise is     the Brahma Kumaris University in Mount Abu. It is a Shangri‐La, a community of people  who are dedicated to universal peace and harmony.  There is so much good work being  done in Mount Abu, including the Global Hospital, where I was able to see firsthand that  love is being practised, not only preached. There are so many ways in Mount Abu of glorifying life, and glorifying the Godhead, the   Supreme Being.”

H.E. Mr. S.R. Insanally
The then President of the United Nations General Assembly (on the 4th September, 1994) during his visit to Mount Abu

14-steve-naraine“There should be a new way of looking at borders between nations. Instead of  seeing a border as a line of division and confrontation between two states, it must be  viewed as a meeting point for the welfare of the two nations. Hence I propose the  Universal Peace Charter. In this context, I highly commend the efforts of Brahma  Kumaris.”

H.E. Shri Steve Naraine, The then Vice President of Guyana

15-lal-krishan-aadvani“आज जब समाज में नैतिक हनन और भौतिकवादी सोच के कारण तेजी से लोगों का चरित्र गिर रहा है, ऐसे में ब्रह्माकुमारी संस्था पूरे विश्व में नैतिक मूल्यों को पुनःस्थापित करने का जो महान कार्य कर रही है, वह सराहनीय है। भारत की अमूल्य धरोहर अध्यात्म के खजाने और स्वस्थ जीवन प्रणाली को प्रोत्साहित करने का कार्य प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्व विद्यालय कर रहा है। ब्रह्माकुमारी संस्था ने भारत का आध्यात्मिक संदेश विश्व स्तर पर फैलाया है। साथ ही आध्यात्मिकता से अनेकों का जीवन बदला है। ऐसे प्रयासों से ही स्वर्णिम दुनिया की स्थापना होगी।”

श्री लालकृष्ण आडवाणी
भूतपूर्व उप प्रधानमंत्री, भारत सरकार
(Mr. L.K. Advani, The then Dy. Prime Minister of India) 

16-h-d-deve-gowda“I have been in touch with the Brahma Kumaris for a pretty long time. I feel that this  organization is doing a lot of solid work in promoting values and spirituality, which is the  dire need of the hour. Their greatest contribution is to unify the country despite its  regional, linguistic and cultural disparities. Rather, it will be in the fitness of things to say  that they are trying their level best to promote international understanding. I wish them all  success in this noble cause.”

Mr. H.D. Deve Gowda, The then Prime Minister of India

17-anerood-jugnauth“On behalf of the people of Mauritius and in my own personal name, may I express  my loving greetings to all of you and specially to Dadi Prakashmani, the Administrative  Head of the Brahma Kumaris World Spiritual University and to the Dadi Janki, the Addl.  Administrative Head. We all agree today that Education should not be confined to the  four walls of the class room of a school. Hence your open institution known as the  Brahma Kumaris World Spiritual University is really a jewel on the Globe.”

Rt. Hon’ble Shri Anerood Jugnauth, The then Prime Minister of Mauritius

18-jehan-ei-sadat“I am very happy and honoured to be a part of this Brahma Kumaris divine family.  Asa Muslim, I find there is nothing here against any religion. The members of Brahma  Kumaris Organisation consider humanity as one family, which is what I have really  experienced here. I am deeply touched by their warmth and by their extremely high  stage of purity.”

Ms. Jehan El Sadat, Wife of the the Late President Anwar Sadat of Egypt

19-v-r-krishna-lyer“Bitter experiences in life led me to many institutions. Thus I reached this Vidyalaya,  which transmits light to the whole world from its Headquarters at Mount Abu. I used to  visit every week the Brahma Kumaris Centre at Delhi when I was in the Supreme Court.  Since this institution is instrumental for spiritual elevation, I am attracted to it again and  again. So I used to visit Mount Abu at least once in two three years and spend there two  or three days. As a result of this I could enjoy spiritual peace. Now I am convinced that  this is helpful for the attainment of internal peace, which is distinct from mere utterance of  ‘OM SHANTI’. When I came closer to this movement, many of its characteristics struck  my heart.”

Justice V.R. Krishna Iyer,The then Judge of Supreme Court of India

20-ranganath-mishra“Man has landed into a lot of problems today through lack of balance. Just as when  a motorcar battery loses power, it needs recharging, so we need the charging of soul.  The beauty of this place (Brahma Kumaris Complex) is ‘to keep the balances very much  alive.’ This institution (Brahma Kumaris) should take over the responsibility of igniting the  light into the teacher, igniting the light into the students, and into the community. If there  is any place in the world today, and where spirituality is the order, I think, it is this  institution. Therefore, an institution of this type, this level, this position, is perhaps the  most capable institution to enthuse into the community the right thinking and the right  process of activity.”

Justice Ranganath Mishra,The then Chief Justice of India

 21-rambaran-yadav“ब्रह्माकुमारी बहनों की शालीनता, स्नेहपूर्ण और मीठी वाणी का लोगों पर काफी अच्छा प्रभाव पड़ा है जिससे अधिकतर लोगों ने सहज ही व्यसन छोड़ दिए हैं। इससे मुझे लगता है कि ब्रह्माकुमारियों के साथ कोई दिव्य शक्ति है जिससे वह ऐसी कमाल कर सकती है। संस्था के कार्यों के प्रति मेरी श्रद्धा और अधिक बढ़ गई है। मुझे पूर्ण विश्वास हो गया है कि समाज के परिवर्तन में यह संस्था एक अहम भूमिका का निर्वहन कर रही है। ब्रह्माकुमारी संस्था के दर्शन में किसी भी प्रकार का धर्म, जाति, रंग, लिंग का भेदभाव नहीं है। `एक परमात्मा, एक विश्व परिवार’ की मान्यता विश्व भाईचारे की स्थापना में अवश्य ही सफल होगी।
आध्यात्मिक शिक्षा केवल सुनने-सुनाने तक सीमित नहीं रहनी चाहिए अपितु व्यावहारिक क्षेत्र में भी उसको उपयोग में लाना आवश्यक है तभी विश्व में शान्ति, सद्भावना और धार्मिक सहिष्णुता का वातावरण बन सकता है तथा हिंसा, भ्रष्टाचार, अत्याचार, गरीबी इत्यादि का अन्त हो सकता है। गौरव की बात है कि ब्रह्माकुमारी संस्था में नारी शक्ति को प्रमुख स्थान और जिम्मेवारी दी गई है। मैं संस्था में समर्पित दादियों और बहन भाइयों के प्रति सम्मान और आभार व्यक्त करता हूँ। मेरा विश्वास है कि माता ही परिवार की प्रथम गुरू है। मातृ शक्ति के आध्यात्मिकरण से ही परिवार, समाज और संसार का उद्धार होगा। ब्रह्माकुमारी॰ज का अभियान सदैव आगे बढ़ता जाए तथा एक सुन्दर संसार के नवनिर्माण के कार्य में सफलता प्राप्त करें, ऐसी मेरी शुभकामना है।”

डॉ. रामबरन यादव, पूर्व राष्ट्रपति, नेपाल

22-parmanand-jhaविज्ञान और तकनीक का सदुपयोग ऐसे समाज की संरचना के लिए करें जिसमें नकारात्मकता और अन्याय के लिए कोई स्थान न हो। `एक परमात्मा, विश्व एक परिवार’ के सिद्धान्त से पूरी दुनिया में अमन और शान्ति का वातावरण बनाया जा सकता है। यहां दिया जा रहा आध्यात्मिक ज्ञान समाज के लिए बहुत आवश्यक है। ज्ञान के नियमित अभ्यास, पुरानी फिलोसॉफी और राजयोग का अभ्यास हमारे सकारात्मक चिंतन को बढ़ाता है। राजयोग के अभ्यास से हमारे अंदर धैर्यता, सहनशीलता इत्यादि गुणों का विकास होता है। हमारी दिल से यही दुआ है कि यह संस्था पूरे विश्व में प्रेम, शान्ति और भ्रातृत्व की भावना स्थापित करे।

 I am really overwhelmed with the serenity and peace of the campus and the cordiality of one and all BK brothers and sisters. I am really impressed with their vision of service and welfare of humanity. I earnestly feel that spiritual knowledge is a potential force in moulding    human mind so as to achieve global unity.

Mr. Parmanand Jha, Former Vice-President, Nepal

23-prakashman-singhचारित्रिक, नैतिक और आध्यात्मिक उत्थान के माध्यम से निरन्तर समाज के सकारात्मक रूपान्तरण में कार्यरत ब्रह्माकुमारी संस्था की मैं दिल से प्रशंसा करता हूँ। नेपाल के प्रत्येक जिले में इस संस्था का अच्छा कार्य चला रहा है। इसमें जुड़े हुए आस्थावान नर-नारी अपने जीवन में श्रेष्ठ स्वभाव, संस्कार और आचरण धारण करते हैं। इनकी शुद्ध, शाकाहारी और दुर्व्यसन मुक्त जीवन पद्धति लोगों को सत्कर्म और सभ्य व्यवहार करने के लिए प्रेरित करती है। आजकल के जमाने में लोग भाषण और उपदेश मात्र से किसी की बात पर विश्वास नहीं करते हैं। मेरा भी यही मानना है कि जीवन में प्रेरणादायी कर्म किए जाए। व्यवहार अच्छा हो, जीवन में गुण और मूल्यों की धारणा हो तभी लोगों पर सकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है। इस रूप में देखा जाए तो ब्रह्माकुमारी॰ज मिशन का यह कार्य एक प्रेक्टिकल उदाहरण है। जिस प्रकार यह संस्था सभी धर्म, संस्कृति और मान्यता के लोगों के लिए अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर कार्य कर रही है वह मनन योग्य और अनुकरणीय है। मुझे इस संस्था के साथ और इसमें समर्पित भाई-बहनों से बहुत ही अपनेपन और निकट सम्बन्ध का अनुभव होता है। जहॉँ तक हो सकता है, मैं संस्था के कार्यक्रमों में सहभागी बनता हूँ। शान्ति के मार्ग से ही समाज, राष्ट्र और विश्व में चिरकाल तक सुख, शान्ति और समृद्धि का विकास हो सकता है। मैं संस्था की उत्तरोत्तर प्रगति की कामना करता हूँ।

Mr. Prakashman Singh, Deputy Prime Minister of Nepal

24-deepak-chopraThe clusters of ‘imaginal cells’ that lie in a caterpillar and are responsible for formation of a butterfly, as these cells are the only ones that do not get diluted and hold on to their original genes for giving rise to a new life form. The Brahma Kumaris centers in different parts of theworld are like these cells as they too are working towards a new reality for this world, where culture, compassion, humility and love will dominate and militarism shall become obsolete.

Dr. Deepak Chopra
World Famous Management Guru, USA

25-captan-singh-solankiविश्व में भारत की पहचान आध्यात्मिक देश के रूप में है। जो समय के अनेक झंझावातों को सहते हुए आज भी अमर है। जब तक भारत में आध्यात्मिकता है, भारत जिंदा रहेगा। आध्यात्मिकता ही मानव को मानव से जोड़ती है। ब्रह्माकुमारी संस्था द्वारा देश व विदेश में बड़े स्तरों पर रिट्रीट सेंटर खोले जाएं तो सरकार का काम काफी आसान हो जाएगा। इससे आतंकवाद और भ्रष्टाचार पर भी नियंत्रण हो जाएगा। यदि हमें सही दिशा में आगे बढ़ना है तो इस प्रकार का आध्यात्मिक ज्ञान हमारे जीवन में होना बहुत ही आवश्यक है।

श्री कप्तान सिंह सोलंकी, राज्यपाल, हरियाणा
Kaptan Singh Solanki, Governor of the Indian State Haryana 

26-balram-das-tandanजिस देश में युवा पीढ़ी जागृत होती है, उस देश का सूर्य कभी अस्त नहीं होता है। इस भूमि के संस्कार के अंदर जगत ने नारी को सर्वोपरि माना है। ब्रह्माकुमारी संस्थान की बहनों ने जिस तरह से विश्व परिवर्तन का जिम्मा उठा रखा है, वह आज के लोगों के लिए नजीर की तरह है।

श्री बलराम दास टंडन, राज्यपाल, छत्तीसगढ़
Mr. Balram Das Tandon, Governor of the Indian State Chhattisgarh

27-mridula-sinhaमनुष्य को व्यक्तिगत तौर पर मूल्यनिष्ठ बनने की आवश्यकता है जिससे समाज में स्वतः ही मूल्यों का समावेश हो जाएगा। सेवा मनुष्य को महान बनाती है तथा समाज में उसका गौरव और प्रतिष्ठा स्थापित करने में अहम भूमिका निभाती है। आज आवश्यकता इस बात की है कि मनुष्य समाज द्वारा दिया जाने वाले सम्मान, पद और प्रतिष्ठा के अंहकार से अछूता रहकर विनम्रता की प्रतिमूर्ति बना रहे। समाज में मूल्यों की पुर्नस्थापना के लिए ब्रह्माकुमारी संस्था जिस प्रकार की भूमिका का निर्वहन कर रही है, वह सराहनीय ही नहीं अनुकरणीय भी है। जीवन मूल्यों का पहला सोपान उसे कहा जाएगा जो किसी अन्धे की लाठी बने, भूखे पेट की ज्वाला शान्त करने के साथ-साथ सशक्त अवस्था का सहारा और जरूरतमंदों का सहायक भी हो। ब्रह्माकुमारी॰ज संगठन यह कर्तव्य निःस्वार्थ भाव से निभा रहा है।

श्रीमति मृदुला सिन्हा, राज्यपाल, गोवा
Mrs. Mridula Sinha,Governor of the Indian State Goa

28-vaju-bhai-rudabhai-walaमहात्मा गाँधी जी ने अपनी सत्य और अहिंसा की शक्ति से भारत देश को स्वतंत्रता दिलाई। हमारे देश की आध्यात्मिक शक्ति सारे संसार को सुख-शान्ति प्रदान कर रही है। ब्रह्माकुमारी संस्था राजयोग ध्यानाभ्यास के माध्यम से सभी आत्माओं को शान्ति प्रदान करने की सराहनीय सेवाएं कर रही हैं। `दाता के हाथ कभी खाली नहीं होते और मांगने वालों के हाथ कभी भरते नहीं है।’ इस सत्य को जानकर हमें भी महादानी बनना है। जैसे हम भौतिक शरीर का शुद्धिकरण करते हैं, ऐसे ही आंतरिक अर्थात् आत्मा के शुद्धिकरण की ओर अधिक ध्यान देते हुए अपने जीवन को सुख-शान्तिमय बनाना है।

श्री वजुभाई रूदाभाई वाला, राज्यपाल, कर्नाटक
Mr. Vajubhai R. Vala, Governor of the Indian State Karnataka

29-margaret-alvaEducation is the foundation for successful life. The Government of India has given more importance by enacting a law that education is a fundamental right. The University and college teachers have a major role in nation building.The Brahma Kumaris Institution is focussing on empowering human life with values and spiritual wisdom. Their academic programmes adopted in different universities will make a difference in learning and help in character building.

H.E. Margaret Alva
The then Governor of Indian State Rajasthan

30-a-k-singhThe “Brahma Kumaris” organization works for the good and betterment of society and for the uplift of individuals. Their latest message through ‘7 Billion Acts of Goodness’ is a very relevant one in today’s world of violence, aggression and drift. My Best Wishes.

H.E. A.K. Singh
The then Governor of Pudduchery

31-j-f-r-jacobSpirituality can provide relief to a person under stress in the modern day competitive world. In the fast changing world, with Science and Technology reaching new heights, and the world becoming a global village, families are facing multifarious problems and are under great stress. It is regrettable that the ancient Indian culture is being ignored by younger generations in the name of progress.
Institutions like Brahma Kumaris can play a positive role in giving relief to the suffering humanity, as they are not bound by caste, colour, creed and religion. They would help the people in overcoming their inhibitions through the teachings of Rajyoga Meditation.

Lt. Gen. J.F.R. Jacob
The then Governor of Punjab

32-jagannath-pahadiaIndia is a land of religious leaders and the Brahma Kumaris are carrying their message forward. The people today are indulging in vices because of a void of spiritual knowledge as they have forgotten the preachings of saints.

H.E. Jagannath Pahadia
The then Governor of Haryana

33-surjit-singh-barnalaआध्यात्मिकता समाज के विभिन्न वर्गों को एकमत होना सिखाती है। आध्यात्मिकता द्वारा मनुष्य में शान्ति, प्रेम, शक्ति, आनन्द इत्यादि दिव्य गुणों के समावेश से श्रेष्ठ संस्कार बनते हैं। वर्तमान समय में समाज आतंकवाद, जातिवाद, धर्मभेद इत्यादि अनेकानेक समस्याओं से जूझ रहा है। ऐसी समस्याओं के समाधान एवं देश को प्रगति की ओर ले जाने के लिए मनोबल, समर्पण, सेवाभाव और ज्ञानबल की आवश्यकता है। इन सभी गुणों को ब्रह्माकुमारी संगठन द्वारा प्रशिक्षित सहज राजयोग के माध्यम से जीवन में उतारा जा सकता है और यहीं से उज्जवल भविष्य की आशा की किरण प्रदीप्त होना सम्भव है। शान्तिपूर्वक जीवन शैली वाले व्यक्ति के चेहरे पर ही वास्तविक मुस्कराहट दिखाई देती है। वसुधैव कुटुम्बकम् की दीर्घकालीन आकांक्षाओं को पूर्ण करने के लिए हर मनुष्य के जीवन में आध्यात्मिकता का समावेश होना चाहिए।

महामहिम सरदार सुरजीत सिंह बरनाला, भतपूर्व राज्यपाल, तमिलनाडु
H. E. Surjit Singh Barnala, Former Governor of Indian State Tamilnadu

34-h-v-v-s-rama-deviMixing politics with education at higher level is eating into the roots of our education system. Students are spoiling their lives after getting involved in party politics. Student life is the time when they have to be taught about values like respect, compassion, love of nature etc. Prajapita Brahma Baba, the founder of the Brahma Kumaris, was a great visionary, who empowered a group of women sixty four years ago, and they are now doing a great work in spreading value education across the world.

Her Excellency V.S. Rama Devi
The then Governor of Karnataka and Himachal Pradesh

35-b-k-n-chhibberI came in contact with this B.K.I.V.V. a few years back when I was stationed at Amritsar. I have studied in depth and experienced Rajyoga meditation taught by the BKs. Purity vibrates from this place. We have learnt from various scriptures that our God Father is one, our true religion is one and our ancient culture is the same, but the practical aspect of this can be seen here. This Ishwariya Vishwa Vidyalaya leads one to the path of spiritual awakening of moral upliftment. Today we need the world peace the most. World peace, however, can be attained by inculcating divine qualities. Today not only in India but also in the whole world, there is a dire necessity of noble behaviour, goodwill, and universal brotherhood as preached and practised by the Brahma Kumaris Ishwariya Vishwa Vidyalaya.

Lt. Gen. (retd.) B.K.N. Chhibber
The then Governor of Punjab

36-e-s-l-narasimahanWe talk of different kinds of empowerment but all of them excepting empowerment through spiritual wisdom are an illusion. For instance, we think that science has given us great power but how helpless we feel in the face of a natural calamity. On the other hand, spirituality brings man peace, love, happiness, humility and strength. A spiritually wise person has no ego, he is not afraid of anything including death, he believes in the brotherhood of humankind and is a true human being. Brahma Kumaris promote these values in the society. I wish them great success.

H.E. Shri E.S.L. Narasimhan
Governor of Andhra Pradesh

37-konijeti-rosaiahThe movement of Brahma kumaris is a service to humanity that has been preaching right thinking and peace of mind as part of its endeavour to create a better world. The path of living being propagated by the movement will relieve any person of his or her worldly despair and help experience eternal peace. Stating that politicians undergo mental stress, physical strain and psychological turmoil day in and day out and  they can learn to attain peace of mind by visiting such places of spirituality by taking some time off.

H.E. Konijeti Rosaiah, Governor of Tamil Nadu

38-liender-paisजय और पराजय एक ही सिक्के के दो पहलू हैं। यह विचार स्मृति में लाकर तनाव को कम किया जा सकता है। तनाव कम होने से विजय प्राप्त करना सहज है। ब्रह्माकुमारी संस्था के वातावरण में सकारात्मक ऊर्जा है जो तनाव मुक्त रहने में मदद करती है।

श्री लिएंडर पेस, टेनिस खिलाड़ी, भारत
Mr. Leander Paes, Indian Tennis Player

39-anant-kumarमैं ब्रह्माकुमारी संस्था में एक मंत्री, एक सांसद अथवा एक राजनेता के सम्बन्ध से नही बल्कि एक ब्रह्माकुमार के नाते से आया हूं। इस संस्थान को किसी पुरूष या महिला शक्ति नही बल्कि एक पराशक्ति या दिव्य शवित चला रहा है । यहॉ मैंने  देखा है कि इतना ब॰डा संगठन हाने के बावजूद भी सभी प्रेम, शान्ति एवं एक मत होकर रहते है। यह परमपिता परमात्मा की ही शक्ति है। आज से मैं भी सदमार्ग पर चलने की कोशिश करूंगा। `सर्वे भवन्तु सुखिनः’ नामक स्लोगन का ब्रह्माकुमारीज ही साकार रूप देगी।

श्री अनंत कुमार, उर्वरक एवं रासायनिक मंत्री, भारत सरकार
Mr. Ananth Kumar, Minister of Chemicals and Fertilizers, Govt. of India

40-harshvardhan-singhआज 80 प्रतिशत बीमारी हमारी अनियमित दिनचर्या और खानपान के बिगड़ने के कारण हो रही है। यदि हम प्रतिदिन अपनी दिनचर्या में आधा घण्टे पैदल, राजयोग मेडीटेशन और अध्यात्म को शामिल कर लें तो ह्दय रोग जैसी गम्भीर बीमारियों से बचा जा सकता है। थ्रीडी हेल्थकेयर एक अच्छी तकनीक है जिसके द्वारा हार्ट की बीमारी को ठीक कर सकते हैं।

डॉ. हर्षवर्द्धन, केन्द्रीय विज्ञानं और तकनिकी मंत्री, भारत सरकार
Dr. Harsh Vardhan, Minister of Science and Technology, Govt. of India

41-v-k-singhThe Message of non-violence and goodwill as delivered by the Brahma Kumaris is incomparable.
Evil tendencies like violence and corruption can be uprooted with pure thoughts. This is what Brahma Kumaris are doing in practice.

General V.K. Singh, Union Minister of State for External Affairs & Former Chief of Indian Army

42-chandra-babu-naiduIt is highly appreciable that Brahma Kumaris have combined science with spirituality. There is a facility of simultaneous translation in 16 languages in this Diamond Hall. I would like to associate with the activities aimed at world peace. I would like to visit this place again and again to get valuable teachings. We have issued instructions in Andhra Pradesh to avail the services of B.K. organization for value education.

N. Chandra Babu Naidu, Chief Minister, Andhra Pradesh

43-raman-singhप्रत्येक मनुष्य आध्यात्मिकता के माध्यम से अपने जीवन में शान्ति, सद्भाव और सकारात्मक दृष्टिकोण जैसे सर्वश्रेष्ठ मानवीय मूल्यों को विकसित कर सकता है। ब्रह्माकुमारी संस्था पूरी दुनिया के लिए आध्यात्मिक उर्जा के एक प्रमुख केंद्र के रूप में मानवता की सेवा का उल्लेखनीय कार्य कर रही है। इस संस्था ने लाखों लोगों को अपनी आध्यात्मिक उन्नति की राह दिखाई है।किसी भी तनाव की स्थिति से छुटकारा पाने में राजयोग का अभ्यास काफी सहायक है।

डॉ. रमन सिंह, मुख्यमंत्री, छत्तीसगढ़
Dr. Raman Singh, Chief Minister of Chhatisgarh

44-shivraj-singh-chauhanमूल्य आधारित शिक्षा और अध्यात्म से ही विश्व को भौतिकवाद से उत्पन्न समस्याओं से बचा सकते हैं। शिक्षा का उद्देश्य ज्ञान, कौशल और नागरिकता के संस्कार देना है। विकास केवल भवनों, पुल-पुलियाओं का निर्माण करना नहीं है बल्कि इसमें मनुष्य का आध्यात्मिक विकास भी शामिल है।

श्री शिवराज सिंह चौहान, मुख्यमंत्री, मध्यप्रदेश
Mr. Shivraj Singh Chauhan, Chief Minister of Madhya Pradesh

45-harish-rawatदेश-विदेश में प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्व विद्यालय के सभी सेवाकेन्द्र विश्व को एक परिवार के रूप में परिवर्तन करने के लिए सराहनीय कार्य कर रहे हैं। विश्व में शान्ति स्थापन हो, यही इस संस्था का लक्ष्य है तथा हरेक मनुष्य में नैतिक मूल्यों को बढ़ावा देने के लिए यह संस्था बहुत ही प्रशंसनीय कार्य कर रही है।

श्री हरीश रावत, मुख्यमंत्री, उत्तराखण्ड
Mr. Harish Rawat, Chief Minister of Uttarakhand

 

Views / Experience | 1 | 2 |