Grand Inauguration of International Media Conference at Brahma Kumaris HQ

764
Abu Road, 22 Sept:  In the presence of 1500 Media persons from 18 countries,  International Media Conference was inaugurated here today in Shantivan Complex of the Brahma Kumaris in Abu Road,  on the topic “Enlightened Media for Building a Better World”. The 3-day Conference was jointly organised by the Media Wing of Rajayoga Education and Research Foundation(RERF) and Brahma Kumaris from 21st to 25th September 2018.

The Keynote Speaker, Prof. Kamal Dixit, National Convener of Media Initiative for Values, Bhopal said, “We have to become a positive instrument in creating a new world for which enlightenment is required and Brahma Kumaris are working towards this aim.”

Mr. Sunder Chand Thakur, Editor of Nav Bharat Times from Mumbai, said, “Let us spread good messages to the world. For enlightened media, media personnel have to be enlightened first. Transformation in media can happen when we first transform the self. Never leave the ink of truth in what you write and there is energy added in writing, which effects the readers.” He was very much impressed how Rajayoga Meditation helps in clearing the blockages in the heart.

BK Nirwair, Secretary General of Brahma Kumaris said, “Today whole world is under the influence of 5 vices – lust, greed, anger , ego, attachment, due to body consciousness, and have become weak due to ignorance. Supreme Father incarnated in this world and is now awakening us souls, this is the age of re-awakening and re-enlightenment , where we souls are meeting the Supreme Soul directly.  By Re-Awakening, we are able to let go of the vices and the soul is able to return to its orginal state of peace, happiness and love.  Today is the day to Re-Awaken, Self Realization and God’s Realization. You have come to Gyan Mansarovar(Lake of knowledge), the place of God. You need Will Power to show positive direction to the world which is gained by having connection with the Supreme.

Mr. Sanjay Sharma, Editor in Chief, News India Channel from Jaipur said, “We are able to take care of our responsibilities in day today life as a human, but when we are in rubbish world, we think of the system where the field of spirituality is required, and Fraternity needs to be awakened.  Its praiseworthy about the Brahma Kumaris, how leadership is handed to women and women is seen as Guru. Concept of Upliftment of Women should reach every home.  Media has to introduce the concept of “Trusteeship” and not be sold to companies and businesses. Enlightenment happens when we collectively enlighten.”

Dadi Ratanmohini, Joint Chief of Brahma Kumaris gave her blessings sharing that  “Whatever I do, others follow me. We have to imbibe divine virtues, and become an example to others and the whole world will change. Transformation begins from the self. When we change, our family transforms and the impact will be seen in the society.  World was once Golden age, we just need the faith that this Iron Age will once again become Golden Age.  By helping each other, lets imbibe the virtues of golden age and help others imbibe virtues, and the world can change.  Golden Age has to come,  so let’s  show the qualities of Golden Age from now.  World transformation depends on us. Let us transform and let the world transform.”

BK Karuna, Chairperson of  Media Wing of Rajayoga Education and Research Foundation(RERF) and Chief Spokesman of Brahma Kumaris greeted everyone saying “Satyam, Shivam, Sundaram(Truth, Benovelent and Beautiful).  Not just, information, education and entertainment , I trust the participants will return from this conference with enlightenment. India will once again be said to be Vishwa Guru(World Guru). Under the lead of 103 year old Chief of Brahma Kumaris , Dadi Janki, 50,000 Brahma Kumari sisters are dedicated and are enlightening the whole world with Indian culture.  Enlightenment is about just one aspect “God(Ishwar) is One”, when this enlightenment happens no one in the world can separate us. Till today we say “Vasudaiva Kutumbakam”(We are one world family) we share the same sun, moon, stars and the sky. Third thing is the enlightenment about the power of soul, power of thought and the power of knowledge .  If Golden Age can become Iron Age, then we can definitely bring back Golden Age with each one’s co-operation.”

Mr. Ajay Kumar Roy, DDG, Rural Business and Planning, Department of Posts, GOI, New Delhi,  shared that the impact and reach of media is huge. So efforts made for Betterment of media will lead to betterment of world.

Dr. Rajkumar Nahar, Director of Doordarshan, Jaipur and International Artist, said, “Empowered pen of media has the power to unite the whole world, it has the power to spread peace and connect the world with the Supreme Power.  Media plays a key role in re-awakening the world.  Let us make sure that media is always associated with truth so that the world can trust media.”

BK Sheilu, Senior Rajayoga Teacher from Mount Abu deliberated on the importance of Rajyoga Meditation and conducted guided mass meditation.

BK Chandrakala, Zonal Co-ordinator of Media Wing, Jaipur well co-ordinated the stage and BK Komal, PRO of the Brahma Kumaris gave the vote of thanks.

Hindi News
बेहतर विश्व के निर्माण के लिए मीडिया में ट्रस्टीपन जरूरी
– मीडिया सम्मेलन का उद्घाटन सत्र…
– न्यूज इंडिया चैनल के एडिटर इन चीफ संजय शर्मा के उद्गार
– देश विदेश से पहुंचे 1500 से अधिक पत्रकार
– बेहतर विश्व के निर्माण के लिए प्रबुद्ध मीडिया विषय पर सम्मेलन 
आबू रोड, 22 सितंबर। बेहतर विश्व बनाने में मीडिया की भूमिका महत्वपूर्ण है। यदि मीडिया में ट्रस्टीपन लाया जाए तो मीडिया विश्व बदलाव का बड़ा माध्यम बन सकता है। इसके लिए लोगों को आगे आकर प्रयास करना होंगे। क्योंकि आज औद्योगिक घरानों के हाथों में मीडिया की कमान है। इससे निष्पक्ष पत्रकारिता कर पाना एक चुनौैतीपूर्ण कार्य है।
उक्त उद्गार न्यूज इंडिया चैनल के एडिटर इन चीफ संजय शर्मा ने व्यक्त किए। वह ब्रह्माकुमारीज संस्थान के शांतिवन परिसर में आयोजित मीडिया महासम्मेलन के उद्घाटन सत्र को संबोधित कर रहे थे। बेहतर विश्व के निर्माण के लिए प्रबुद्ध मीडिया विषय पर आयोजित महासम्मेलन में देशभर से 1500 से अधिक पत्रकार पहुंचे हैं। उन्होंने कहा कि आज मीडिया की सबसे बड़ी चुनौती है कि हमें व्यवस्था अपने हिसाब से इस्तेमाल करती है। पत्रकारिता का काम प्रश्न उठाना है। ऐसे में मीडिया में साहस होना जरूरी है। एक व्यक्ति पूरी दुनिया का परिवर्तन कर सकता है। ये बात प्रजापिता ब्रह्मा बाबा साकार कर रहे हैं।
ब्रह्माकुमारीज की संयुक्त मुख्य प्रशासिका राजयोगिनी दादी रतनमोहिनी ने कहा कि मां-बाप बच्चों को बचपन से ही अच्छे संस्कारों की शिक्षा दें। यदि मां-बाप में भी अच्छे गुण, विशेषताएं, आदतें और श्रेष्ठ संस्कार होंगे तो बच्चों में भी वही संस्कार विकसित होंगे। जैसा बीज बच्चों में डालेंगे, वैसा ही फल मिलता है। आज हम सारा दोष परिस्थिति पर देते हैं लेकिन कभी अपने कर्मों और सोच पर ध्यान नहीं देते हैं। जैसे हमारे कर्म होंगे, हमें देखकर और करेंगे। अच्छी बातों को जानने के साथ उन्हें कर्म में लाना बहुत जरूरी है। अच्छी बातों का प्रचार-प्रसार मीडिया करे तो समाज में अच्छाई का माहौल बन जाएगा।
मुंबई से आए नवभारत टाइम्स के एडिटर सुंदरचंद ठाकुर ने कहा कि मीडिया को अपनी जिम्मेदारी समझते हुए समाज को बेहतर बनाने की दिशा में जरूरी कदम उठाने होंगे। समाज के सामने आदर्श प्रस्तुत करना होगा। जयपुर से आए दूरदर्शन के प्रोग्राम हेड डॉ. राजकुमार नायर ने कहा कि कलम ईश्वर से जुडऩे का सशक्त माध्यम है। ब्रह्माकुमारीज द्वारा इस पावन भू-धरा से समाज को बदलने का कार्य किया जा रहा है जो बहुत ही सराहनीय है। ये ऐसी संस्था है जो माताओं-बहनों द्वारा संचालित है, जहां सभी को एकसूत्र में पिरोने का कार्य किया जा रहा है। वसुधैव कुटुम्बकम की भावना को साकार किया जा रहा है।
बदलाव का सबसे बड़ा जनक है मीडिया…

केंद्रीय रुरल बिजनेस एंड प्लानिंग डिपार्टमेंट के डिप्टी डायरेक्टर जनरल अजय कुमार रॉय ने कहा कि आजादी से लेकर देश में जो भी बड़े या महान कार्य हुए हैं वह सभी मीडिया के कारण ही संभव हो सके हैं। नए बदलाव में मीडिया सबसे बड़ी कड़ी है। देश में आरटीआई लागू करने में मीडिया की सबसे महत्वपूर्ण भूमिका रही है। वहीं बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ को जन-जन का अभियान बनाने और लोगों की मानसिकता बदलने में मीडिया ने अपना अहम रोल निभाया है। वरिष्ठ पत्रकार प्रो. कमल दीक्षित ने कहा कि मीडिया ही बदलाव का सबसे बड़ा केंद्रबिंदु और माध्यम है। जब पत्रकार आध्यात्मिक रूप से सशक्त, मजबूत और दिव्य गुणों से ओतप्रोत होगा तो समाज भी उसी अनुसार हो जाएगा। क्योंकि मूल्यनिष्ठ समाज का आधार मू्ल्यनिष्ठ मीडिया है।
मीडिया से ही जलेगी आध्यात्म की ज्योत…
 
संस्थान के महासचिव बीके निर्वैर भाई ने कहा कि दुनियाभर में आध्यात्म की ज्योत जलाने और लोगों में सकारात्मक परिवर्तन लाने का बीड़ा मीडिया को उठाना होगा। मीडिया से ही आध्यात्म का नारा बुलंद होगा। आप सभी नए विश्व के निर्माण में अपनी कलम से शिल्पकार की भूमिका निभाने वाले मनीषी हैं।
राजयोग के अभ्यास से कराई शांति की अनुभूति…

मीडिया विंग के अध्यक्ष बीके करुणा ने कहा कि समाज में परिवर्तन लाना का कार्य मीडिया के द्वारा ही संभव है। मीडिया में ही वह ताकत है जो विश्व परिवर्तन का महान कार्य कर सकता है। राजयोग कॉमेन्ट्री के माध्यस से सभी मीडियाकर्मियों को गहन शांति का अनुभव वरिष्ठ राजयोग शिक्षिका बीके शीलू बहन ने कराया। शुरुआत में बैंगलुरु कलाकेंद्र से आईं बालिकाओं ने सुंदर नृत्य की प्रस्तुति दी। जयपुर की मीडिया विंग जोनल को-ऑर्डिनेटर बीके चंद्रकला,  ने मंच संचालन किया। आभार पीआरओ बीके कोमल ने माना।फोटो- 22 एबीआर 01- राष्ट्रीय मीडिया महासम्मेलन में उपस्थित देशभर से पधारे पत्रकार।
फोटो- 22 एबीआर 02- सम्मेलन के उद्घाटन सत्र में संबोधित करते अतिथिगण।
फोटो- 22 एबीआर 03-  सम्मेलन के उद्घाटन सत्र में संबोधित करते अतिथिगण।
Previous articleAbu Road: Grand Inauguration of International Media Conference at Brahma Kumaris HQ
Next articleWellness Training Program for Rajasthan Government Community Health Officials by Brahma Kumaris