Indian Law Minister Ravi Shankar Prasad Addresses Global Summit at Abu Road.

420

Abu Road (Raj): The First Plenary session of the Global Summit Cum Expo on Spiritualty For Unity, Peace And Prosperity, was addressed by  Honorable Ravishankar Prasad, Minister of Law and Justice, Communications and Electronics, Information and Technology, Government of India.

Dadi Janki, Head of Brahma Kumaris, Rajyogi BK Brij Mohan, Additional Secretary General of Brahma Kumaris, Rajyogini BK Santosh, Head of Maharashtra, Andhra and Telangana Zone of Brahma Kumaris, BK Atam Prakash, Editor of Gyanamrit, Mr. Fuad Mammadov, Professor, Academy of Public Administration under the President of Azerbaijan ,  Mr. G. Krishna Reddy, Minister of State for Home Affairs, Governent of India and BK Sister Shivani, Famous Motivational Speaker and Recipient of Nari Shakti Award , were also present at this occasion.

Honorable Ravi Shankar PrasadMinister of Law and Justice in his address said that he always wanted to come to Mount Abu. The energy here is uplifting. The work for women empowerment being done by Brahma Kumaris has given new confidence to women and will go down in history as a unique contribution. It is a wonder that 103 years old Dadi Janki is carrying forward the spiritual heritage of this country with such vigor. He urged the journalists to highlight and take to the masses the work of character building being done by this organization. He appreciated the basic principle of Brahma Kumaris, that self transformation is the only way to world transformation.

Mr. G. Krishna Reddy,  Minister of State for Home Affairs said that spiritual power shows us the right way and empowers us to fight the evils within. Rajayoga brings peace to the mind.India is a land of rich spiritual heritage as evident from thousands of temples and places of worship present all over the country.

BK Atam Prakash, in his remarks said that the Brahma Kumaris will bring the next important revolution in mankind, namely the spiritual revolution.

Mr. Fuad Mammadov, said that he is very pleased to express his views from such a high pedestal and witness this beautiful country of India.For Unity, Peace and Prosperity, cultural values, morals and mental powers need to converge. Their organization has decided to honor Dadi Janki and BK Santosh with the title of Ambassador of Culture. He invited Brahma Kumaris to a conference on similar theme in Azerbaijan.

BK Brij Mohan. apprised the distinguished guests and audience about the efforts of Brahma Kumaris to bring out the divinity in man by waging mental war against the sense indulgences through Rajayoga. Yoga is the call of our times. Yoga will make Bharat the World Teacher again.

BK Santosh, asked the audience to practice steadfastness in thoughts and learn economy of thoughts and emotions. This will help conserve energy. Positive intentions lead to good results.

BK Sister Shivani also interacted with the audience and explained the real significance of the festival of Navratras starting from today.

Many prominent journalists including Mr. Deepak Kumar Jha of Pioneer, Mr. Chandrabhushan and Mr. Gulshan Rai Khatri of Nav Bharat Times were felicitated on this occasion. Ms. Manshi Pradhan, Founder of Nirbhaya Vahini, Ms. Kriti Bharti, Founder of Saarthi Trust and Ms. Mamatha Raghuveer Achanta, Founder of Tharuni from Hyderabad were also honored by Mr. Ravi Shankar Prasad for notable contribution to the society.

News in Hindi :

Mount Abu / Abu Road: ब्रह्माकुमारी संगठन द्वारा नारी शक्ति के सम्मान में जो कार्य किया रहा है वह इतिहास में लिखा जाएगा: केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद

– प्रसाद बोले- पत्रकार आलोचना और व्यंग्य करें लेकिन ब्रह्माकुमारीज जैसे व्यक्ति निर्माण के कामों को भी बताएं, लोग सुधरेंगे – वैश्विक शिखर सम्मेलन में मीडिया और आध्यात्म पर खुलकर बोले कानून मंत्री
ब्रह्माकुमारीज संस्थान के अंतरराष्ट्रीय मुख्यालय आबू रोड में चल रहे वैश्विक शिखर सम्मेलन में केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा कि ब्रह्माकुमारी संगठन की ओर से नारी शक्ति के सम्मान में जो कार्य किया रहा है वह इतिहास में लिखा जाएगा। भारत की पहचान उसकी भौगोलिकता, देश के नाम व सीमा से नहीं है बल्कि भारत की पहचान उसकी आध्यात्मिकता से है। ब्रह्माकुमारीज के इस परिसर में आध्यात्मिक ऊर्जा, उत्साह, शान्ति, सद्भाव का प्रेरणादाई अनुभव हो रहा है।
शनिवार को शाम के सत्र में उन्होंने कहा कि ब्रह्माकुमारी संस्था का विश्व के 140 देशों में चेतना जागृति, ध्यान, आत्म सशक्तिकरण, राजयोग मेडिटेशन का अनवरत रूप से चल रहा कार्य साधारण नहीं है, यह परमसत्ता का ही कार्य है। परमसत्ता की सच्चाई अविभाज्य है। आंतरिक भाव से ही सत्य को खोजा जा सकता है। स्वामी रामकृष्ण परमहंस, स्वामी विवेकानंद, महात्मा गांधी आदि ने अपने- अपने तरीके से सत्य की खोज की। भारत ने दुनिया को युद्ध नहीं बल्कि बुद्ध दिया है।
बता दें कि आबू रोड के शांतिवन परिसर में आध्यात्म द्वारा एकता, शांति और समृद्धि विषय पर पांच दिवसीय वैश्विक शिखर सम्मेलन का आयोजन किया जा रहा है। इसमें 140 देशों से सात हजार से अधिक विशेषज्ञ पहुंचे हैं।आंतरिक परिवर्तन की शक्ति राजयोग से प्राप्त होती है…
कानून मंत्री प्रसाद ने कहा कि ब्रह्माकुमारीज व्यक्ति के चरित्र का निर्माण करती है। चरित्र निर्माण के लिए आंतरिक परिवर्तन की शक्ति राजयोग से प्राप्त होती है। आध्यात्म में भी पर्यावरण को सुखद बनाने की परंपरा रही है जिसके परिणामस्वरूप भारतीय संस्कृति में पेड़ों का भी सम्मान होता है। दादी जानकी 103 वर्ष की होते हुए भी महिला शक्ति को आगे बढ़ाने का कार्य कर रही हैं। दादी जानकी भारत की विशिष्टता हैं। जैसी हमारी दृष्टि होती है, वैसी ही वृत्ति, कृति और सृष्टि का निर्माण होता है।मीडिया ब्रह्माकुमारीज जैसे व्यक्ति निर्माण के कामों को भी बताए…
उन्होंने कहा कि पत्रकार आलोचना और व्यंग्य करें लेकिन ब्रह्माकुमारीज जैसे व्यक्ति निर्माण के कामों को भी बताएं। देश में 18 हजार अखबार और 250 न्यूज चैनल हैं पर आज भी समाज में हो रहे अच्छे कार्य लोगों तक कम ही पहुंच रहे हैं। ब्रह्माकुमारीज जो व्यक्ति चारित्रिक उत्थान, आध्यात्मिक विकास और संपूर्ण मानव जाति के कल्याण के लिए कार्य कर रही है मीडिया उसे लोगों को बताए, लोग सुधरेंगे। सोशल मीडिया को सही तरीके से उपयोग में लिया जाना चाहिए, इसमें हिंसा अलगाववाद को स्थान नहीं दिया जाना चाहिए।  लोकतंत्र में कानून अपना काम कर रहा है। हमने महिलाओं पर हो रहे अत्याचारों को देखते हुए तीन तलाक हटाने, अनुच्छेद 370 को खत्म करने और बच्चों को विकास को लेकर कानून बनाए।

ाध्यात्मिक शक्ति हमें सही दिशा दिखाती है: केंद्रीय गृह राज्यमंत्री रेड्डी
केंद्रीय गृह राज्यमंत्री जी. कृष्ण रेड्डी ने कहा कि आध्यात्मिक शक्ति हमें सही दिशा दिखाती है और बुराइयों से मुक्त करती है। ऋषि-मुनियों ने भी इसका महत्व समझकर साधना की। राजयोग से जीवन में मन को गहन शांति मिलती है। स्व परिवर्तन से विश्व परिवर्तन बीके का स्लोगन है। हम उस देश के वासी हैं जिसने सदा दिया ही दिया है। 103 वर्षीय संस्थान की मुखिया दादी जानकी ने कहा कि धैर्य व्यवहार को मधुर बनाता है। हमारा भारत देवों को स्थान माना जाता है। चारों तरफ मंदिर-मस्जिद हैं। जो प्रेम, शांति, खुशी का संदेश देते हैं। संस्थान के अतिरिक्त महासचिव बीके बृजमोहन ने भी अपने विचार व्यक्त किए।

इनका किया सम्मान…
इस दौरान केंद्रीय मंत्री प्रसाद ने पायोनियर के दीपक कुमार झा, नवभारत टाइम्स के चंद्रभूषण और गुलशन राय खत्री का सम्मान किया। साथ ही निर्भया वाहिनी की संस्थापक मानषी प्रधान, तरुणी की संस्थापक ममता रघुवीर, सारथी की संस्थापक कृति भारती का भी सामाजिक कार्यों में उल्लेखनीय योगदान के लिए ब्रह्माकुमारीज की ओर से केंद्रीय मंत्री प्रसाद ने मोमेंटो देकर सम्मानित किया।