Prime Minister Modi Inaugurates the 80th Anniversary Celebrations of the Brahma Kumaris at Abu Road, India

1137

PM Modi urges Brahma Kumaris to assist in Govt programmes

Abu Road, March 26: Prime Minister Narendra Modi on Sunday maintained that though there may be different forms of worshipping God, India had always believed that God was one.

“In India, God is not different for Hindus, Muslims and Parsis. The truth is one, only different people may express it differently. We are such a country which does not believe in imposing our views on anyone. We are such people who believe that knowledge has no limits, knowledge has no timing, knowledge is not bound by anything, knowledge does not need any passport, knowledge does not need a visa,” the PM said through video conference on the inauguration of the 80th anniversary celebrations of the Brahma Kumaris at their campus in Abu Road, Rajasthan.

Modi urged the Brahma Kumaris to use their large network of centres and volunteers to aid the Government’s efforts in the areas of renewable energy, nutrition and health, and for ushering in a cashless economy.

The PM lauded the institution for working with unity and dedication over eight decades to spread the light of India’s spiritual knowledge all over the world.

Addressing more than 6,000 prominent persons from India and abroad who have gathered for the four-day celebrations, the PM noted that the Brahma Kumaris have more than 8,500 meditation centres all over the world. This large network and Brahma Kumaris volunteers, he said, can be used to bring about major change in the country by the year 2022, when India will be celebrating 75 years of independence.

“Is it not our responsibility to do something to fulfil the dreams of the founders of this nation”, he asked.

“Under the leadership of the Brahma Kumaris, we can bring about an energy revolution and a revolution in human lives”, he added.

Noting the extensive use of solar power by the Brahma Kumaris, including a 1 MW solar thermal power plant set up by the institution, and its use of solar steam cooking systems to prepare up to 30,000 meals three times a day, he said India had set the target of producing 175 gigawatts of energy from non-fossil fuel sources by 2030.

In addition, 22 crore LED bulbs had been supplied by municipalities and other local bodies all over the country, resulting in savings of Rs 11,000 crore. He urged the Brahma Kumaris to spread awareness about LED bulbs to help reduce the country’s dependence on fuel imports.

Referring to the demonetisation move  of the government, he also asked the Brahma Kumaris to ask their volunteers to use the Bhim app and help small traders in their locality do the same in order to speed the transition to a cashless economy.

Turning to health, the PM said women volunteers from the Brahma Kumaris can aid the government’s immunisation programme to ensure a healthy future for the millions of children who otherwise fall victim to serious illnesses.

This, he said, was a part of empowering women, and added that India had recently become one of the few countries in the world to grant 26 weeks of maternity leave, up from 12 weeks previously.

He also suggested that the institution launch an online certificate course on nutrition, about which there is little awareness in the country. All universities in the country could be made a part of this effort, he said. Students in classes 9th to 12th would particularly benefit from better nutrition, which would help them when they later start families or their careers, he noted.

The PM began by congratulating the Brahma Kumaris on completing 80 years of service. Eighty years has special significance in India, as a person is said to have seen 1000 full moons in that time span, he said.

He also greeted the gathering on the coming Hindu new year and Cheti Chand.

B K Nirwair, Secretary General of the Brahma Kumaris, assured the PM of the institution’s support in the initiatives mentioned by him. He also requested the PM to include spiritual knowledge in the curricula of schools and colleges, which would help create a better future.

Dadi Janki, the head of the Brahma Kumaris, said the institution had taught her to use her mind, body and wealth to serve humanity, and told the PM that he could use spiritual knowledge to conserve his thoughts and time.

The guest of honour of the inaugural session, Justice Shahibul Hasnain of the Lucknow Bench of Allahabad High Court, said the founder of the Brahma Kumaris chose women to lead the organisation because the role required the qualities of kindness and gentleness along with determination and firmness.

Mr Gulab Kothari, Editor-in-Chief of Rajasthan Patrika, said the Brahma Kumaris had expanded all over the world only because of woman power. He said the institution had established a unique identity in the world.

The administrative head of the Brahma Kumaris, Dadi Janki, said one should know who I am and who is mine. She said she had served God for 80 years and He was her father and mother. “If we are patient, we experience peace and love, and then nothing is difficult”, she said.

Mr N K Singh, General Secretary of the Broadcast Editors Association, said it was not easy to teach values in a commercialized world, but the Brahma Kumaris were carrying out this task admirably. He said it was a matter of concern that while India’s GDP was growing every year, its rank in the global happiness index was falling, and added that only the Brahma Kumaris could improve the country’s happiness ranking.

Mr Sanjay Kulshreshtha, Editor-in-Chief of News Nation, said people needed to remove the frame of negativity from their minds, which took them away from spirituality.

Mr S Venkat Narayan, President of the Foreign Correspondents Club of South Asia in India, said India’s parliament needed the kind of peace prevailing in the Brahma Kumaris campus, and expressed the hope that the institution would give a message of peace for countries wracked by conflict, such as Syria and Iraq.

The speakers from the media world were felicitated on the occasion for their services to society.

Earlier in the day, senior BJP leader L K Advani led a host of luminaries in paying tribute to the work of the Brahma Kumaris. Rajya Sabha Deputy Chairman P J Kurien and Bollywood star Raveena Tandon were among the other dignitaries who lauded the Brahma Kumaris for serving society and setting an example of women’s empowerment.

Members of Parliament, state legislators, senior judges, industrialists and media personalities are attending the celebrations.

Speaking during the reception session inside the cavernous Diamond Hall, Asia’s largest pillar-free hall, Advani said Brahma Kumaris was the only institution of its kind in the world that had been founded and expanded by women.

“Just as the mother plays the key role in a family, women have played the main role in the growth of the Brahma Kumaris”, he said.

Recalling how he had seen the institution grow since its early days in Karachi, before the partition of the subcontinent, Advani said the Brahma Kumaris were a source of moral guidance for the world and everyone could learn honesty and discipline from them.

Speaking of his association with the Rashtriya Swayamsevak Sangh (RSS), Advani said the RSS had helped mould his character, and he had learned discipline from the Sangh.

“I learned from the RSS never to be dishonest in my dealings with anyone. This may be a small thing, but it has helped me serve society,” the BJP leader said.

Praising the idealism of the Brahma Kumaris, he noted that behind it were the ideal qualities of the institution’s members. Pointing to Dadi Janki, the 101-year-old head of the Brahma Kumaris, he said her long and active life was no ordinary achievement; it was a divine gift received only by those who lead exemplary lives.

Besides Dadi Janki, Dadi Hirdaya Mohini, the additional head, and Dadi Ratan Mohini, the joint head of the Brahma Kumaris, were present on the occasion, as were Mr Devjibhai Patel, MP from Jalore, and Mr Amara Ram, Rajasthan Revenue Minister.

Dadi Janki was earlier extolled by Mr P J Kurien as an example of women’s empowerment. He said the progress of the country should be measured by Gross Domestic Happiness (GDH), not Gross Domestic Product, and the Brahma Kumaris were contributing to India’s GDH.

Brahma Kumaris epitomize India’s great culture and their message is a beacon of light in today’s world of extremism and terrorism, he said.

Noting the leading role played by women in the Brahma Kumaris, Raveena Tandon said it was an institution full of maternal love and care. “We sometimes worry about what kind of world our children will live in, but there are still organizations such as the Brahma Kumaris that are spreading love in the world, and this gives us hope”, she said.

A highlight of the proceedings was the felicitation of several prominent media figures for their services to society. They included Mr Gulab Kothari, Editor-in-Chief, Rajasthan Patrika; Mr Deepak Chaurasia, Editor-in-Chief, India News; Mr Sudhir Chaudhary, Editor-in-Chief, Zee Media Group; and Mr Sanjay Kulshreshtha, Editor-in-Chief, News Nation.

Mr K Vaidhyanathan, Chief Editor, Dinamani; Mr Reghu Ramachandran, Channel Head, Asianet; and Mr R Bhagwan Singh, Executive Editor, Deccan Chronicle, were also felicitated.

Modi_News_Final (New Addition)

Video: https://drive.google.com/a/bkivv.org/file/d/0B4gnZAI5QLIJWGZoOVJYdGRrS1E/view?usp=drive_web

Hindi News:

आबू रोड: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने किया इंटरनरेशनल कॉन्फ्रेंस कम कल्चरल फेस्टिवल का उद्घाटन

एक परमात्मा, एक विश्व परिवार देश का चिंतन: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी
– वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से किया संबोधित 
– ब्रह्माकुमारी संस्था के 80 वर्ष पूर्व होने पर दी शुभकामनाएं
– रशियन कलाकारों ने बांधा समां
 
माउण्ट आबू/आबूरोड (राजस्थान)। विश्व एक परिवार है। हम सब एक पिता की संतान हैं, यह भारत का चिंतन रहा है। हमारे देश की खासियत है हम अपने विचारों को किसी पर थोपते नहीं हैं। यही देश है जिसने विश्व को डंके की चोट पर कहा है कि ईश्वर एक है।  इतना विशाल, व्यापक चिंतन और विचार इसी धरती पर पैदा हुआ। शास्त्रों ने बताया कि सत्य एक है अलग-अलग लोग उसे अलग-अलग रूप में कहते हैं।
उक्त उद्गार प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से उद्घाटन करते हुए व्यक्त किए। प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्व विद्यालय के 80 वर्ष पूर्ण होने पर आबू रोड के शांतिवन परिसर में इंटरनरेशनल कॉन्फ्रेंस कम कल्चरल फेस्टिवल  ‘विश्व परिवर्तन के लिए परमात्म ज्ञानÓ विषय पर आयोजित किया जा रहा है। पीएम मोदी ने कॉन्फेंस को रविवार शाम 6 बजे संबोधित किया।
पीएम मोदी ने कहा आज भी संस्था उसी विचार, उतनी ही कर्मठता, एकरूपता के साथ विश्वभर में अपना संदेश दे रही है, जिस संकल्प से 80 वर्ष पूर्व दादा लेखराज ने इसकी नींव रखी थी। 80 साल का मतलब सहस्र चंद्रदर्शन का पर्व होता है। यह वर्ष किसी भी संस्था, व्यक्ति के लिए महत्वपूर्ण होता है।  इस दौरान सभी ने टॉर्च जलाकर शांति की रोशनी फैलाई, जिसकी पीएम ने भी सराहना की।
30 हजार लोगों का खाना सोलर एनर्जी से
 
आबू जैसे स्थान पर तीन मेगावॉट की सोलर एनर्जी का प्रयास पर्यावरण संरक्षण के लिए बहुत ही प्रेरक है। यहां एक साथ 30 हजार लोगों का भोजन सोलर एनर्जी से बनाया जाता है। यह बहुत बड़ा बदलाव लाने का प्रयास है। यहां सिर्फ आध्यात्मिक बातें नहीं, बल्कि गरीब से गरीब व्यक्ति के जीवन में बदलाव लाने का प्रयास किया जा रहा है। साथ ही सभी संस्था के भाई-बहनों से आह्नान किया कि आप सभी भी अपने घरों में एलईडी लाइट लगाकर बिजली बचाने में अपना योगदान दें। यहां 30 हजार लोगों के भोजन बनाने का काम सोलर एनर्जी से किया जाता है।
सभी ऊर्जा बचाने का संकल्प लें
 
संस्था बहुत बड़ा बदलाव लाने का प्रयास कर रही है। यहां सिर्फ आध्यात्मिक बातें नहीं, बल्कि गरीब से गरीब व्यक्ति के जीवन में बदलाव लाने का प्रयास किया जा रहा है। 2022 तक ब्रह्माकुमार व कुमारियों के माध्यम से ऊर्जा बचाने का संकल्प लें। सभी अपने मोबाइल फोन पर भीम एक डाउनलोड कर नकद से डिजिटल के लिए प्रयास करें।
बालिकाओं को शिक्षित करें
 
पीएम ने कहा कि 9वीं से 11वीं तक के बच्चे पोषण के संबंध में शिक्षित होंगे तो टीचर पर उनका गहरा प्रभाव होगा। 2022 एक संकल्प लेने के लिए आपको निमंत्रित करता हूं। ब्रह्माकुमारी का इसमें बहुत बड़ा योगदान है। मैं आग्रह करूंगा कि आप भी सक्रियता से कार्य करें तो बहुत बड़ा परिणाम, सकारात्मक बदलाव हमारे सामने होगा।
ऑनलाइन कोर्स शुरू करने का आह्नान किया
 
पीएम मोदी ने संस्था के पदाधिकारियों से ऑनलाइन मूल्य एवं आध्यात्मिक कोर्स शुरू करने का आह्नान किया। इसके माध्यम से देशभर में ऑनलाइन सर्टिफिकेट, डिग्री कोर्स कराकर एग्जाम कराने के लिए कहा। उन्होंने विश्वास दिलाया इसमें भारत की सभी यूनिवर्सिटी का पूरा सहयोग रहेगा।
खास-खास
 
– प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के आह्नान पर संस्था के सचिव बीके निर्वेर भाई ने भारत के सभी स्कूल-कॉलेजों में मूल्य एवं आध्यात्मिक शिक्षा शुरू करने की मांग की। 
– निर्वेर भाई ने कहा कि बच्चों को आध्यात्मिक दी जाए तो भारत को विश्व गुरु बनने से कोई नहीं रोक सकता। 
– दादी जानकी ने पीएम मोदी को माउंट आबू आने का निमंत्रण दिया। उन्होंने कहा नरेन्द्र भाई पूरे विश्व को प्रेम, खुशी, शक्ति दे रहें हैं इसकी बधाइयां। 
रशियन कलाकारों ने आगाज को बनाया यादगार
 
उद्घाटन समारोह में रूस के ‘डिवाइन लाइटÓ गु्रप ने स्वागत नृत्य पेश कर समां बांध दिया। कलाकारों की आकर्षक प्रस्तुति देख डायमंड हॉल परिसर तालियों की गडग़ड़ाहट से गूंज उठा। कलाकारों ने प्रस्तुति से शांति का संदेश दिया।
मातृशक्ति ने ब्रह्माकुमारी को फैलाया दुनिया में
 
पत्रिका समूह के प्रधान सम्पादक गुलाब कोठारी ने कहा कि मातृशक्ति की बदौलत ही यह संगठन दुनियाभर में फैल गया। यहां पुरुषों द्वारा संचालित संस्थाएं देश से बाहर ही नहीं निकल पाई हैं। कोठारी ने कहा कि दुनिया मातृशक्ति के आगे-पीछे ही चलती है। यह एहसास दादा लेखराज को 80 वर्ष पूर्व हो गया था और उन्होंने इसकी कमान बहिनों के हाथ में सौंपी। इससे संस्थान ने पूरी दुनिया में एक अनूठी पहचान कायम की है। कोठारी ने अध्यात्म के कई पहलुओं पर विचार व्यक्त किए।
यहां दया, ममता देखने को मिली
 
इलाहाबाद हाईकोर्ट लखनऊ बेंच के वरिष्ठ न्यायाधीश शहीबुल हसनैन ने कहा यहां दया, प्रतिबद्धता, ममता, करुणा देखने को मिलती है। वसुधैव कुटुम्कम का जितना अच्छा चित्रण यहां हुआ है, कहीं नहीं हुआ। पूरा संसार एक परिवार है। हम सब एक ही ईश्वर की संतान हैं। संस्था के अतिरिक्त महासचिव बीके मृत्युंजय भाई ने आभार माना।
अपना बना के बाबा ने मुस्कुराना सिखा दिया
 
संस्था की मुख्य प्रशासिका दादी जानकी ने कहा कि हर एक को मैं कौन, मेरा कौन जानना चाहिए। 80 साल से मैं बाबा की सेवा में हूं। वही मेरा माता-पिता है, उसके सिवाए मेरा दुनिया में कोई नहीं है। उसने मुझे ऐसी पालना भी दी है और सेवा भी कराई कि वही मेरा दिला राम है। धीरज है तो शांति है, प्रेम है, कोई भी बात मुश्किल नहीं है। अपना बना के बाबा ने मुझे मुस्कुराना सिखा दिया है।
ब्रोडकॉस्ट एडिटर्स एसोसिएशन के जनरल सेक्रेटरी व वरिष्ठ पत्रकार एनके सिंह ने कहा कि बाजार की शक्तियों के बीच जीवन मूल्यों की शिक्षा देना और उनसे लड़ते हुए मूल्यों का प्रचार-प्रसार करना बहुत दुश्कर काम है और ब्रह्माकुमारीज संस्थान यह काम बखूबी कर रही है। यह अद्भुत संस्थान है, इससे मैं पिछले १० सालों से जुड़ा हूं। जब भी यहां आता हूं, खुद को हर बार यहां के लोगों से बहुत छोटा पाता हूं। छोटेपन का यह अहसास ही मुझे यहां पर खींच लाता है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री ने संस्थान को स्वच्छ भारत और ऊर्जा के क्षेत्र की चुनौतियों से निपटने का जो भागीरथ कार्य दिया है, उसमें यह संस्थान पूर्ण रूप से सफल होगी। यह चिंता की बात है कि आज देश का जीडीपी बढ़ रहा है। मगर यूएन के हैप्पीनेस इंडेक्स में हमारा नंबर साल दर साल पीछे आता जा रहा है। इस इंडेक्स में खुशी की पुनस्र्थापना का कोई काम कर सकता है तो वह सिर्फ ब्रह्माकुमारीज है।
वरिष्ठ पत्रकार संजय कुलश्रेष्ठ ने कहा कि हमें नकारात्मकता के फ्रेम को अपने मस्तिष्क से मिटाना होगा। हमारा दिमाग एक-एक सूचना को लेता है। ऐसे में हमें, उस फ्रेम को हटाना होगा जो हमें आध्यात्म से दूर ले जाए और अर्थ का अनर्थ करे।
 
फोरेन करसपोन्डेंड्स क्लब ऑफ साउथ एशिया इन इंडिया के प्रेसिडेंट एस वेंकट नारायणन ने कहा कि भारत की संसद को ब्रह्माकुमारीज के यहां जैसी शांति की जरूरत है। उन्होंने उम्मीद जताई कि संस्थान विश्व के अशांत देशों जैसे सीरिया, ईराक आदि के लिए भी कोई शांति का संदेश दें।
ब्रह्माकुमारीज रिट्रीट सेंटर न्यूयार्क की डायरेक्टर बीके डोरोथी, मैक्सिको के पूर्व संसद सदस्य अर्नोस्टो कैस्टेलेनस ने कहा कि भारत विश्व की आध्यात्मिक शक्ति है। इस दौरान अतिथियों की मौजूदगी में दादी जानकी ने केक काटकर सभी को बधाई दी।
Patrika News: https://goo.gl/769IHf
Previous articleFormer Dy. Prime Minister of India, L K Advani Addresses the 80th Anniversary Celebrations of Brahma Kumaris :
Next article‘Brahma Kumaris a Spiritual Beacon in Modern Life, say Dignitaries at Int’l Conference and Cultural Festival