“Role of Media In Making Bharat A World Teacher” – An International Festival In Bhopal

621

Bhopal ( Madhya Pradesh ): The Brahma Kumaris Bhopal organized an international festival to deliberate on the role of all categories of people in “Making Bharat The World Teacher“.

Rajyogi BK Karuna, Head of the Media Wing of the Brahma Kumaris, in his address, said that the Brahma Kumaris sisters are disseminating the ancient spiritual wisdom of India all over the world. The aim is One God, One World, One Family. This spiritual heritage will surely make Bharat the World teacher again.

Chief Guest on this occasion, Mr. Parikipandla Narahari, IAS, Commissioner, Urban Administration Department, Government of Madhya Pradesh, said that media is the fourth pillar of democracy. It will definitely play a huge role in making Bharat the World teacher again. One should aim to work without getting attached to the results. Media can help take any work forward in a better way.

BK Avadesh, Head of the Bhopal Zone of the Brahma Kumaris, in her welcome address, said that the media is like a pole star in the society today. If it helps give a positive message of peace, it will surely help Bharat be the World Teacher.

BK Sushant, National Coordinator of the Media Wing, said that to make any endeavor successful, Yoga and concentration is necessary, The Media Wing is active since 1980 for generating public awareness. Spiritual values are needed to give a right direction to the media today. Only then can Bharat become the world teacher.

Mr. Rajesh Badal, Veteran Journalist and former Executive Director of Rajya Sabha TV, while coordinating the program, said that India’s ancient knowledge and wisdom cements its place as the World Teacher.

Prof. Kamal Dixit, Editor of Razi Khushi, said that tapping into the hidden powers of the mind with spirituality can make Bharat great again.

Mr. Shiv Anurag Pateriya, Veteran Journalist and Bureau Chief of Lokmat in Madhya Pradesh, said that self-regulation is the need of the hour in media. Good values must be promoted in media to harness its power for a better tomorrow.

Mr. Sharad Dwivedi, Bureau Chief of Bansal News in Bhopal, said that good values bring fragrance into people. Media should fulfill its responsibility towards the society just like the Brahma Kumaris.

Mr. Madhukar Dwivedi, veteran journalist from Raipur, said that the present time calls for self-transformation. This difficult work is being done by the Brahma Kumaris.

Veteran Journalists Mr. Somdutt Shastri, Mr. Sarman Nagele, and Mr. Rizwan Ahmed Siddiqui also expressed their good wishes. BK Dr. Reena conducted the stage. BK Nirmala from Rewa gave the vote of thanks.

Hindi News

प्रजापिता ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्व विद्यालय, क्षेत्रीय कार्यालय . भोपाल.( म. प्र.)

पुरातन संस्कृति को सारे विश्व में फैलाकर भारत को विश्व गुरु बना रही ब्रह्माकुमारिज–राजयोगी करूणा जी

आने वाले समय में मीडिया के माध्यम से भारत विश्वगुरु बनेगा—पि. नरहरि

भारतकों विश्वगुरु बनाने ७ दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय महोत्सव का शानदार आगाज

ब्रह्माकुमारिज भोपाल जोन का पुरे मध्यप्रदेश में आयोजन

भोपाल: १२ अक्टूबर

१४० देशों में ब्रह्माकुमारिज के सेवाकेंद्र कार्य कर रहे है, जिनकासंचालन बहाने करती है | और ये बहने केवल पुरातन संस्कृति ही सिखाती है | ब्रह्माकुमारिज में तीन बाते सिखाई जाती है |एकईश्वर, एक विश्व, एक परिवार | ब्रह्माकुमारिज में ४०००० समर्पित बहने, १०००० समर्पित भाई, एवं१० लाख परिवार प्रतिदिन ईश्वरीय ज्ञान एवं योग  अर्थात पुरातन संस्कृति  प्रतिदिन ब्रह्माकुमारिज में जाकर सीखते है | ईश्वर की संतान है, सबको एक करना ब्रह्माकुमारिज में सिखाया जाता है | जोबातें खुलकर नहीं दी जा रही थी, वहींशिक्षाएं निर्भय होकी ब्रह्माकुमारिज के माध्यमसे पुरे विश्व में दी जा रही हैं| जिनके माध्यम से भारत निश्चित ही निकट भविष्य में विश्व गुरु बन कर रहेगा| उक्त उदगार ब्रह्माकुमारिज मीडिया प्रभाग के राष्ट्रीय अध्यक्ष राजयोगी करुणा भाई जी ने, भारत को विश्व गुरु बनाने में सर्व वर्गों का योगदान विषय पर आयोजित अंतर्राष्ट्रीयमहासम्मेलन के पहले दिन आयोजित राष्ट्रीय मीडिया सम्मेलन में व्यक्त किए |

कार्यक्रम के मुख्य अतिथि पी. नरहरि जी, आई. ए. एस., आयुक्त जनसंपर्क, म. प्र. शासन भोपाल ने कहा कि प्रदेश एवं भारत की मीडिया अपने सर्वश्रेष्ठ कार्यों के माध्यम से चौथा स्तंभ बनकर मार्गदर्शन करता आया है | मुझे पूरा विश्वास है कि आने वाले समय मेंनिश्चित ही मीडिया के माध्यम से हम विश्व गुरु बनने जा रहे है| हमें फल की चिंता किये बगैर अपना कार्य बेहतर तरीके से करना है | मीडिया आईने के समान है, मीडिया शुभचिंतक है| मीडिया के द्वारा हम बेहतर तरीकेसे कार्य को आगे बढ़ा सकते है |

कार्यक्रम में स्वागत भाषण देते हुए ब्रह्माकुमारिज, भोपाल जोन की निदेशिका राजयोगिनी बी. के. अवधेश बहन जी ने कहा कीमीडिया वर्ग सभी वर्गों में ध्रुवतारे के समान है | आजज़िलों की नगरी भोपाल मेंभारत के विश्व गुरु बनने का बीजारोपण हो रहा है | निकट भविष्य में सम्पूर्ण भारत विश्वगुरु बनेगा | भारत विश्वगुरु भगवान की अवतरण भूमि है | भगवान हमारे पिता है, एवं भारत माता है तो भारत विश्वगुरु हो ही गया | उन्होंने आगे कहा कि भारत एक वो थाली हैजिसमें सभी मूल्य सजे हुए थे | पाश्चातसभ्यता दैवी सभ्यता नहीं है, वह हमें अपनी सभ्यता से दूर ले जा रही है | भोपाल अर्थात भू को पालने वाला | संसार की रचना संकल्पों से होती है | मीडिया वाले शांति का पैगाम फैलायेंगे तो भारत अवश्य ही विश्व गुरु बन जाएगा |

ब्रह्माकुमारिज मीडिया प्रभाग के राष्ट्रिय संयोजक, बी. के.सुशांत भाई जी नें कहा कि भगवत गीता में लिखा है की कोई भी कार्य तभी सफल होता है जब योग एवं ध्यान से प्रारम्भ करते है तो पोजिटिव एनर्जी से ओतप्रोत हो जाते है | मीडिया हमको अंतरात्मा से कनेक्ट करनें का कार्य भी करते है| ब्रह्माकुमारिज का मीडिया प्रभाग जनजागृति लाने के लिए सन १९८० से सक्रीय है | समाज में १० प्रतिशत सकारात्मक एवं ९० प्रतिशत नकारात्मक ऊर्जा है | आध्यात्मिक ज्ञान से मीडिया एवं जनमानस को सकारात्मक सोच से जोड़ना है | तभी भारत विश्व गुरु बन सकता है |

कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हए राज्यसभा टी. वी. के पूर्व कार्यपालक निदेशक, दिल्ली से पधारे वरिष्ठ पत्रकार श्री. राजेश बादल जी, नें कहा कि विश्व गुरु बनने की बात ही नहीं है| हम तो पहले भी विश्व गुरु थे, अब भी है और आगे भी विश्व गुरु रहेंगे|उसका आधार यह है कि हरयुग में एसी परम्परा रही है जिसे कहते है ज्ञान की परम्परा| ज्ञान की प्रामाणिकता अन्तरराष्ट्रीय स्तर पर साबित होती है तब हम विश्व गुरु कहलाए| हम विश्व गुरु की जगह प्रतिष्ठित है| पाश्चात सभ्यता बादलों के समान हमारे समाज में आ गई है| ये पाश्चात सभ्यता रूपी बादल हमारे समाज में आ गई है जिससे हमारी मीडिया पटरी से उतर गई है|  मीडिया में सामाजिक समरसता एव आध्यात्मिकता होने से पाश्चात्य सभ्यता रूपी बादलों को छांटने में मदद कर सकती है तभी भारत विश्व गुरु बन सकता है|

राजी ख़ुशी के संपादक वरिष्ठ पत्रकार प्रो. कमल दीक्षित जीने कहा की मन की सुप्त शक्तियों को आध्यात्मिकता से जगाकर विचलन को दूर कर भारत को विश्व गुरु बना सकते है|

लोकमत, म. प्र. के ब्यूरो चीपश्री. शिव अनुराग पटेरिया जी, वरिष्ठ पत्रकार  ने कहा की, मीडिया आज खतरनाक मोड़ परआकर कड़ी हो गई है | पहले मीडिया मिशन एवं प्रोफेशन के लिए कार्य करती थी, परन्तु आज मीडिया जाने कहा आकर कड़ी हो गई है | आधुनिक बाजारों एवं सरकारों ने मीडिया को बहुत प्रभावित किया है | मीडियाया को आत्मअनुशासन में मनसा, वाचा, कर्मणामेंला सकते है | समाज के अच्छे लोगों को संरक्षण देकरदिव्य गुणों को अपने आप में समाकर समाज के मन को बदलकर विश्व गुरु बन सकते है |

बंसल न्यूज, ब्यूरो चीप, भोपाल, श्री. शरद द्विवेदी जी, वरिष्ठ पत्रकार नें कहा किगुलाब स्वतः खुशबु देता है एस  हीअच्छेगुणों का वर्णन करने की आवश्यकता नहीं है | जिस तरह ब्रह्माकुमारिज संस्थान अपना उत्तरदायित्व निभा रहा है, उसी तरह मीडिया भी अपने उत्तरदायित्व को पूराकर भारत को विश्व गुरु बनाने में सहयोग देना है |

रायपुर से पधारे वरिष्ठ पत्रकार मधुकर द्वीवेदी जीनें कहाकि समय की येही पुकार है कि हम अपने में परिवर्तन लाएं| ब्रह्माकुमारिज संस्थान नें लोगों के पाँव से काँटा निकलने का कार्य किया है |

कार्यक्रम के  प्रारम्भ में मावुंट आबू से पधारे मधुरवाणी ग्रुप के सतीश भाई एवं गौतम भाई नें सुन्दर गीई प्रस्तुत कर कार्यक्रम में समा बाँध दिया |

कार्यक्रम में दिल्ली से पधारी , ब्रह्माकुमारिज ओमशांति रिट्रीट सेंटर, दिल्ली की नर्देशिक राजयोगनी बी . के शुक्ला दीदी ने आशीर्वचन दिय I

कायर्क्रम में रूस एव चीन के प्रतिनिध भी उपस्तिथ थे I

श्री सोमदत्त शास्त्री जी, वरिष्ट पत्रकार एव श्री सरमन नगेले जी वरिष्ट पत्रकारए डिजियाना न्यूज के रिजवान अहमद सिदिकी ने कार्यक्रम प्रति अपनीअपनी शुभकामना प्रस्तुत की I कायर्क्रम के अंत में रीवा सेवाकेंद्र प्रभारी बी. के निर्मला जी ने आभार प्रदर्शन किया I बी. के. डॉ. रीनाबहन, सेवाकेन्द्र प्रभारी, गुलमोहर कोलनी, भोपाल ने कुशल मंच संचालन किया Iकार्यक्रम के आरंभ में दीप प्रज्ज्वलन कर कार्यक्रम का विधिवत उद्घाटन किया गया I कुमारी आक्रति, कुमारी यशस्वी एवं ग्रुप ने न‌‌‍ृत्य के माध्यम ये अपने भावो को व्यक्त किया I

Previous article“Stop Still for Peace” – International Day of Peace events by Brahma Kumaris in Australia
Next articleBrahma Kumaris Felicitated by World Book of Records, UK